ग्रेटर नोएडा, जागरण संवाददाता। माता-पिता की मौत का बदला लेने के लिए हेमा चौधरी (26) की हत्या कर खुद की मौत का स्वांग रचने वाली पायल भाटी (23) तक पहुंचने के लिए पुलिस को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। पायल व उसके पुरुष मित्र अजय ठाकुर को पकड़ने के बाद पुलिस ने बृहस्पतिवार दोपहर साढ़े 12 बजे पूरा सीन रिक्रिएट करवाया।

सीन रिक्रिएट में महिला सिपाही हेमा चौधरी बनी और अजय उसको बैठाकर गौर सिटी माल से 19 किलोमीटर दूर घटनास्थल पर दादरी के बडपुरा गांव ले गया। वहां महिला सिपाही के हाथ पर चाकू रखकर पायल ने बताया कि कैसे हेमा के हाथ की नस काटी थी। बात इतने पर नहीं रुकी।

हत्या का सीन रिक्रिएट करने के बाद पुलिस दोनों आरोपितों को बुलंदशहर के भूड़ चौराहा क्षेत्र में लेकर गई जहां हेमा के कपड़े फेंके गए थे। कपड़े बरामद किए गए। हालांकि मोबाइल व पर्स अभी बरामद नहीं हो सका है।

प्रेमिका से शादी की चाहत ने बना दिया हत्या

पायल ने प्रेमी अजय के सामने शर्त रखी थी कि यदि वह उससे शादी करना चाहता है तो उसको चार लोगों की हत्या करनी होगी। इससे पहले मौत के स्वांग के लिए मिलती जुलती कद काठी की युवती को मारना होगा। अजय इस कदर प्रेमिका के जाल में फंस गया कि वह हत्यारा बन गया।

पायल ने आत्महत्या करने का किया था प्रयास

माता-पिता की मौत होने के बाद पायल ने प्रेमी अजय को बताकर आत्महत्या करने का प्रयास किया था। समाज में बदनामी के डर से मामले की सूचना पुलिस को नहीं दी गई थी। हालत गंभीर होने पर उसको अस्पताल में भी भर्ती कराया गया था।

इस गलती से पकड़े गए आरोपित

हेमा का अपहरण कर जब अजय उसको बडपुरा ले गया तो वहां डर में अजय का मोबाइल खो गया। अजय ने अपने नंबर पर काल, गलती से हेमा के मोबाइल से लगा दी। हेमा के गुमशुदगी मामले की जांच कर रही पुलिस को उसके मोबाइल पर अंतिम काल अजय की मिली।

वहीं से पुलिस को लाइन मिली और मामले का पर्दाफाश हुआ। एक और साक्ष्य पुलिस को मिला। सर्विलांस से पता चला कि हेमा व अजय के मोबाइल गौर सिटी माल से एक ही स्थान यानी बडपुरा तक साथ-साथ गए थे। फोरेंसिक टीम ने भी बडपुरा स्थित पायल के घर से साक्ष्य एकत्र कर इस बात की पुष्टि की है। 

Edited By: Abhishek Tiwari

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट