Move to Jagran APP

Muzaffarnagar News: दोस्त की हत्या कर दो दिन तक घर में छिपाए रखा शव, कूड़ा बीनने वाले से फिंकवाई लाश

muzaffarnagar Crime News मुजफ्फरनगर में दोस्त ने धाेखे से भरोसे का खून कर दिया। कंपनी के साढ़े तीन लाख रुपये बैंक लेकर निकला युवक दोस्त के घर पहुंचा तो रुपयों के लालच में अंधे हुए रोहित की आंखों में खून उतर आया और बिना सोचे समझ उसने धर्मेंद्र पर ताबड़तोड़ वार कर उसकी हत्या कर दी। धर्मेंद्र और अपने परिवार के बारे में जरा भी नहीं सोचा।

By Jagran News Edited By: Abhishek Saxena Tue, 09 Jul 2024 10:03 AM (IST)
Muzaffarnagar News: दोस्त की हत्या कर दो दिन तक घर में छिपाए रखा शव, कूड़ा बीनने वाले से फिंकवाई लाश
मुजफ्फरनगर के वसुंधरा कॉलोनी में हत्या की घटना के बाद मौके पर पहुंची फोरेंसिक विभाग की टीम। जागरण

जागरण संवाददाता, मुजफ्फरनगर। muzaffarnagar Crime News लाखों रुपये के लालच में दोस्त ने युवक की कुल्हाड़ी और चाकू से वार कर हत्या कर दी। आरोपित ने दो दिन तक शव को अपने ही घर के बाहरी ओर बनाए बाथरूम में छिपाए रखा। फिर कूड़ा बीनने वाले की मदद से शव को मंसूरपुर थाना क्षेत्र में फेंकवा दिया। पुलिस ने हत्यारोपित को गिरफ्तार कर लिया है।

नई मंडी कोतवाली प्रभारी बबलू सिंह ने बताया, शनिवार को अवध विहार निवासी रविंद्र ने अपने 30 वर्षीय बेटे धर्मेंद्र की गुमशुदगी दर्ज कराई थी, जो राधा गोविंद ऑटोमोबाइल शोरूम में काम करता था। पुलिस ने जांच शुरू की और उसके घर के आसपास क्षेत्र में सीसीटीवी फुटेज खंगाली। उसमें शनिवार की सुबह धर्मेंद्र अपनी स्कूटी से एटूजेड कालोनी की तरफ जाता दिखाई दिया।

सीसीटीवी फुटेज से जांच की पुलिस ने

पुलिस ने फुटेज के आधार पर जांच की तो धर्मेंद्र की स्कूटी वसुंधरा कॉलोनी निवासी रोहित के घर के बाहर खड़ी मिली। पुलिस ने रोहित से पूछताछ की तो वह पुलिस को गुमराह करता रहा। पुलिस अभी जांच कर ही थी कि सोमवार की दोपहर मंसूरपुर थाना पुलिस को जड़ौदा बस अड्डे के समीप स्वास्तिक फैक्ट्री के पीछे बोरी में युवक शव मिला, जिसके शरीर पर धारदार हथियारों के निशान थे।

ये भी पढ़ेंः पहाड़ों पर हो रही बारिश से उफान पर रामगंगा; खतरे के निशान से महज 86 सेंटीमीटर नीचे, बाढ़ का अलर्ट जारी

इसकी जानकारी मिलने पर नई मंडी थाना पुलिस ने स्वजन से शव की पहचान कराई तो वह धर्मेंद्र का निकला। इसके बाद पुलिस ने रोहित को हिरासत में ले लिया और उससे सख्ती से पूछताछ की। तब उसने धर्मेंद्र की हत्या की कहानी सुनाई।

मृतक धर्मेंद्र का फाइल फोटो।

पहले कुल्हाड़ी से वार किए फिर चाकू से गोदा

नई मंडी कोतवाली प्रभारी बबलू सिंह ने बताया, रोहित और धर्मेंद्र के राधा गोविंद ऑटोमोबाइल शोरूम में काम करते थे। रोहित ने धर्मेंद्र से पांच हजार रुपये उधार ले रखे थे। शनिवार को रुपये देने के लिए रोहित ने धर्मेंद्र को अपने घर बुलाया था। धर्मेंद्र स्कूटी से गया था। उस समय धर्मेंद्र के पास कंपनी के तीन लाख 64 हजार रुपये भी थे। इन रुपयों को देख रोहित के मन में लालच आ गया और उसने धर्मेंद्र पर कुल्हाड़ी से ताबड़तोड़ वार कर दिए। फिर चाकू से गोद कर मार डाला।

ये भी पढ़ेंः सांसद चंद्रशेखर बोले-121 मौतों के जिम्मेदार 'साकार विश्व हरि' व सरकार, पीड़ित परिवारों को एक करोड़ की सहायता दें बाबा

बाथरूम में रखी लाश

शव को बोरी में बंद कर मकान के बाहर वाले बाथरूम में रख दिया और उसकी कुंडी लगा दी। शव को ठिकाने लगाने के लिए रोहित ने ठेले पर कूड़ा बीनने वाले से एक व्यक्ति से 50 हजार रुपये में सौदा किया और रविवार रात में शव को बोरे में रखकर मंसूरपुर थाना क्षेत्र में फेंक आया।

नई मंडी प्रभारी ने बताया, रोहित को गिरफ्तार कर लिया है। उसकी निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त हथियारों को बरामद किया जाएगा। वारदात के समय रोहित घर में अकेला था।

रुपयों को देख भूल गया दोस्ती...

धर्मेंद्र और रोहित अच्छे दोस्त थे और एक-दूसरे के दुख-सुख में साथ खड़े रहते थे। वक्त पड़ने पर दोनों एक-दूसरे की आर्थिक मदद भी करते थे, लेकिन धर्मेंद्र के पास तीन लाख 64 हजार की रकम देखकर रोहित अंधा हो गया था। उसने यह भी नहीं सोचा कि जिसकी वह हत्या करने जा रहा है, वह उसका जिगरी दोस्त है।

रोहित की गिरफ्तारी के बाद पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि वारदात में रोहित के साथ परिवार को कोई सदस्य तो शामिल नहीं था। धर्मेंद्र के साथ काम करने वालों का कहना था कि दोनों अक्सर साथ देखे जाते थे। धर्मेंद्र की मौत के बाद से पत्नी और उसके परिवार वालों का रो-रोकर बुरा हाल है।