मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। Shoes Socks Distribution : ठाकुरद्वारा में जूते व मोजे पिछले सत्र में नहीं बांटने के मामले को बेसिक शिक्षाधिकारी बुद्धप्रिय सिंह ने गंभीरता से लिया है। उन्होंने ठाकुरद्वारा के खंड शिक्षाधिकारी से इस मामले में स्पष्टीकरण मांगा है। किस कारण यह जूते नहीं बांटे गए और बांटे गए तो यह बीआरसी में क्यों रखे हैं। दैनिक जागरण की ओर से 15 सितंबर के अंक में ठाकुरद्वारा बीआरसी में जूते कबाड़ होने की खबर प्रकाशित हुई थी। ठाकुरद्वारा में जूते-मोजे नहीं बांटने से उनमें फफूंद लग गईं थीं। अब वर्तमान शिक्षा सत्र में बच्चे चप्पलों में आ रहे हैं।

वर्तमान सत्र में व्यवस्था में बदलाव हुआ है। अबकी बार जूते-मोजे खरीदने को धनराशि अभिभावकों के खाते में आनी है लेकिन, अभी तक नहीं आई है। पिछले सत्र के जूते व मोजे सौ फीसद बांटने की रिपोर्ट सभी खंड शिक्षाधिकारियों ने दी थी। पिछले सत्र में बेसिक स्कूल नहीं खुले थे। लेकिन, निर्देश दिए गए थे कि जूते-मोजे, किताबें, यूनिफार्म, बैग व स्वेटर स्कूल में पांच-पांच अभिभावक व बच्चों के ग्रुप बुलाकर बांटे जाएं। ठाकुरद्वारा के अलावा जिले के कई और स्कूल हैं, जहां सौ फीसद जूते-मोजे व अन्य पठन-पाठन सामग्री नहीं बंटी। इस लापरवाही से अभिभावकों में भी नाराजगी है। बीएसए बुद्धप्रिय सिंह ने बताया कि खंड शिक्षाधिकारी से स्पष्टीकरण मांगा है कि जूते-मोजे क्यों नहीं बांटे गए हैं।

यह भी पढ़ें :-

गांधी जी ने अफ्रीका से लौटने के बाद तीन बार हरिद्वार तक की थी ट्रेन से यात्रा, जानें कब-कब की थी यात्रा

जितिन प्रसाद ने कांग्रेस और राहुल गांधी पर निशाना साधा, बोले- भाजपा एक व्यक्ति की नहीं कार्यकर्ताओं के बल पर चलने वाली पार्टी

योगी सरकार के रामपुर सांसद आजम खां की जौहर यूनिवर्सिटी की जमीन कब्जे में लेने के एक हफ्ते बाद विश्वविद्यालय में मना जश्न

वाह रे स्वास्थ्य विभाग, कोरोना की वैक्सीन लगाई नहीं और पोर्टल पर दर्शा दिया कि हो गया टीकाकरण

 

Edited By: Narendra Kumar