मुरादाबाद, (प्रदीप चौरसिया)। Gandhi Jayanti 2021 : मुरादाबाद रेल मंडल में महात्मा गांधी ट्रेन से तीन बार आए थे। अफ्रीका से लौटने के तुरंत बाद मुंबई से हरिद्वार तक ट्रेन से सफर किया था। मुरादाबाद मंडल में ट्रेन से गांधी जी के आने के प्रमाण मिले हैंं। दरअसल इस बार गांधी जयंती के अवसर पर रेलवे ट्रेन से गांधी यात्रा का वृत्तांत प्रस्तुत करेगा। उसके तहत पिछले दिनों उत्तर रेलवे मुख्यालय ने जोन के सभी मंडल रेल प्रशासन से सूचना मांगी थी कि महात्मा गांधी ट्रेन द्वारा उनके मंडल में कब-कब पहुंचे थे या यात्रा शुरू की थी।

मुरादाबाद समेत अन्य रेल मंडल प्रशासन ने इसकी जानकारी करने के लिए मुख्य वाणिज्य निरीक्षक व अन्य सुपरवाइजर को लगाया था। स्टेशन मास्टरों से स्टेशन डायरी की तलाश करने का आदेश दिया। साथ ही स्वतंत्रता संग्राम सेनानी द्वारा लिखित डायरी व पुस्तक का भी अध्ययन करना शुरू किया। इसके बाद ये तथ्य सामने आए हैं। इसकी रिपोर्ट उत्तर रेलवे मुख्यालय को भेज दी गई है। जांच में जो तथ्य सामने आए हैं उसके अनुसार अफ्रीका से लौटने के बाद वर्ष 1915 में महात्मा गांधी मुंबई से हरिद्वार तक ट्रेन से आए थे।

हरिद्वार में गुरुकुल में देश भक्तों और स्वामी श्रद्धानंद से मिले थे और कुंभ मेलेे में भी शामिल हुए थे। वर्ष 1927 में हरिद्वार आए थे और देहरादून, मसूरी अल्मोड़ा भी गए थे। 13 अक्टूबर 1927 में महात्मा गांधी धामपुर आए थे। गांधी जी ने सभा को संबोधित किया था और शाम को मुरादाबाद से हरिद्वार जाने वाली ट्रेन में सवार होकर हरिद्वार गए थे। इसका जिक्र स्वतंत्रता संग्राम सेनानी चरण सिंह सुमन द्वारा लिखित पुस्तक में मिलता है।

इसी तरह से 1946 में रेल मंडल के शाहजहांपुर स्टेशन पर आए थे। महात्मा गांधी ट्रेन से कोलकाता में दंगे शांत कराने जा रहे थे। ट्रेन रुकते ही गांधी शाहजहांपुर स्टेशन पर उतरे थे और स्थानीय लोगों से मिलने के बाद चले गए थे। प्रवर मंडल वाणिज्य प्रबंधक सुधीर सिंह ने बताया कि रिपोर्ट तैयार करके उत्तर रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी को भेज दी गई है।मुरादाबाद रेल मंडल के रामपुर, गढ़मुक्तेश्वर महात्मा गांधी आए थे, लेकिन ट्रेन से आने के प्रमाण नहीं मिले हैं। 

Edited By: Samanvay Pandey