मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक की लालाटीकर शाखा में सीबीआइ के छापे के बाद ऋण स्वीकृत करने में मुख्यालय स्तर से बड़ा निर्णय लिया गया है। लालाटीकर शाखा में प्रबंधक स्तर पर ऋण स्वीकृत करने की पावर हटा दी गई है। क्षेत्रीय प्रबंधक स्तर से ऋण स्वीकृत होंगे। अभी तक दस लाख रुपये तक का ऋण स्वीकृत करने की पावर शाखा प्रबंधक को होती थी। इससे ऊपर के ऋण क्षेत्रीय प्रबंधक करते आ रहे हैं। लेकिन, अब दस लाख रुपये तक के ऋण भी क्षेत्रीय प्रबंधक ही स्वीकृत करेंगे। शाखा में ऋण की प्रक्रिया पहले की तरह पूरी होगी। इसके बाद शाखा स्तर से क्षेत्रीय प्रबंधक को ऋण स्वीकृत करने संबंधी फाइल भेजी जाएंगी। क्षेत्रीय प्रबंधक भी उच्च अफसरों के संज्ञान में ऋण की फाइलों को लाएंगे। इसके बाद ऋण स्वीकृत हो जाएगा।

चार दिन पहले बैंक प्रबंधक गिरीश गंगवार व दलाल कय्यूम मास्टर किसान से रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़े गए थे। इससे प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक की छवि खराब हुई है। लालाटीकर में सीबीआइ छापे के बाद निर्णय लिया है कि अगर किसी भी शाखा की ऋण स्वीकृति में रिश्वत की शिकायत मिली तो कार्रवाई निश्चित होगी। लालाटीकर में बैंक प्रबंधक की एक दलाल के साथ ही नहीं क्षेत्र के कई दलालों से मिलीभगत थी। सीबीआइ की कार्रवाई से इस क्षेत्र में किसानों को बड़ी राहत मिली है। अब लालाटीकर क्षेत्र के ग्रामीणों को बैंक स्तर नी ऋण की प्रक्रिया  पूरी करनी होगी लेकिन, ऋण स्वीकृत क्षेत्रीय प्रबंधक ही करेंगे।

लालाटीकर शाखा में ऋण स्वीकृत करने की पावर प्रबंधक के पास नहीं रहेगी। क्षेत्रीय प्रबंधक ही ऋण स्वीकृत करेंगे। लेकिन, ऋण संबंधी प्रपत्र शाखा में पूरे होंगे।

राकेश अरोरा, अध्यक्ष, प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक

यह भी पढ़ें :-

मुरादाबाद के ठाकुरद्वारा में नशे में धुत युवकों ने कर दी दोस्‍त की हत्‍या, आठ माह पहले ही हुई थी शादी

Aaj ka Rashifal 04 December 2021 : आज इन राश‍ियों के लोगों के घरों में आएंगी खुश‍ियां, पढ़ें आज का राश‍िफल

अब बुजुर्ग और दिव्यांग का घर पर ही होगा कोरोना टीकाकरण, सम्‍भल में स्‍वास्‍थ्‍य व‍िभाग ने बनाई रणनीति

यूपी से बाहर के राशनकार्ड धारकों को अब न‍िश्‍शुल्‍क नहीं म‍िलेगा तेल और चना, जान‍िए क्‍या है न‍ियम

Edited By: Narendra Kumar