मेरठ, जेएनएन। सीएचसी मवाना में सोमवार देर रात ऑक्सीजन नहीं मिलने से 45 वर्षीय व्यापारी की मौत हो गयी। स्वजन ने शव का अंतिम संस्कार कर दिया। उधर, स्वास्थ्य विभाग ने सीएचसी में ऐसी किसी घटना से इन्कार किया है। मोहल्ला हीरालाल निवासी 45 वर्षीय संदीप पुत्र कांतिप्रसाद सरायवाली गली में परचून की दुकान करते थे। करीब एक सप्ताह पूर्व उन्हें बुखार आया था। पहले निजी चिकित्सक के पास उपचार चलता रहा, लेकिन बुखार नहीं उतरा। सोमवार को उन्हें सांस लेने में दिक्कत हुई तो स्वजन सीएचसी ले गए। यहां मौजूद स्टाफ ने आक्सीजन नहीं होने की बात कहकर मेरठ ले जाने को कहा। इससे पहले एंबुलेंस आती संदीप की सांसें थम गईं। स्वजन ने उपचार में लापरवाही और आक्सीजन नहीं देने का आरोप लगाया। हालांकि कुछ देर विरोध करने के बाद स्वजन शव को घर ले गए। आरोप है कि सीएचसी पर व्यापारी की कोरोना जांच भी नहीं हुई।

यह भी पढ़ें: बुलंदशहर में नकली शराब पीने से दो की मौत- एक की हालत गंभीर, डीएम समेत कई अफसर मौके पर पहुंचे

मवाना में बुखार से महिला की मौत

मवाना में मंगलवार को एक महिला की मौत हो गई। वह कई दिन से अस्पताल में भर्ती थी। हालांकि स्वजन ने बताया कि उसको बुखार था पर कोरोना की बात से इन्कार किया है।

यह भी पढ़ें: बुलंदशहर में दर्दनाक हादसा : ट्रक और वैन की जोरदार टक्‍कर में चार प्रवासी मजदूरों की मौत, दो गंभीर घायल

सीएचसी पर ऑक्सीजन की कमी, ओपीडी बंद

सीएचसी मवाना पर एक माह से आक्सीजन की कमी बनी हुई है। उधर, कोरोना के कारण सप्ताहभर से ओपीडी बंद हो गई है। अब सिर्फ इमरजेंसी रोगियों को ही देखा जा रहा है। सीएचसी मवाना प्रभारी सतीश भास्कर ने कहा कि सीएचसी पर ऑक्सीजन का अभाव है लेकिन ऐसा कोई रोगी 24 घंटे के भीतर यहां नहीं आया, जिसकी उपचार के दौरान मौत हुई हो। कहीं बाहर ही इलाज के दौरान मौत हुई होगी। 

Fight Against COVID-19 In Meerut: जानिए- मेरठ के कोविड अस्पतालों में कहां कितने बेड? सूची जारी

यह भी पढ़ें: मेरठ में सैन्य क्षेत्र के फैमिली क्वार्टर को बम से उड़ाने की धमकी, मिले पत्र से मचा हड़कंप Meerut News


Edited By: Himanshu Dwivedi