मेरठ (जेएनएन)। उत्तर प्रदेश में बड़ी संख्या में हावी हो चुके दहशतगर्ज पश्चिमी उत्तर प्रदेश को दंगे की आग में झुलसाने में लगे हैं। आज मेरठ में ईद की नमाज के बाद बड़ी संख्या में लोगों ने परीक्षितगढ़ थाने पर हमला बोल दिया। 

मेरठ में ईद के कारण जगह-जगह पर तैनात पुलिस के थाना में कम होने के कारण उपद्रवियों ने परीक्षितगढ़ थाना पर हमला बोल दिया। इन सभी ने पहले पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और इसके बाद पथराव तथा फायरिंग शुरू कर दी। इनमें से कुछ ने थाना फूंकने का भी प्रयास किया। जिस पर जवाबी कार्रवाई करते हुए पुलिस ने भी हवाई फायरिंग की। 

इस प्रकरण में दर्जन भर से ज्यादा लोग घायल हो गए, जबकि कई पुलिसकर्मियों को भी चोटें आई हैं। बाद में किसी तरह पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर काबू पाया और उन्हें थाने से दूर भगाया। 

देखें तस्वीरें : मेरठ में नमाज के बाद थाना थाना फूंकने का प्रयास

घटना की वजह हत्या के आरोप में पूछताछ के लिए उठाए गए एक युवक को छोडऩा बताया जा रहा है। दो दिन पूर्व एक मुस्लिम युवक अमिताभ पुत्र बिल्लू की हत्या कर दी गई थी। परिजनों ने वसीम और नदीम पर हत्या का आरोप लगाया था। पुलिस ने केस रजिस्टर्ड कर छानबीन शुरू की और वसीम को पकड़ लिया।

यह भी पढ़ें: मऊ में पूजास्थल पर मांस का टुकड़ा देख दो गुट भिड़े, एक की मौत

पूछताछ में वसीम ने हत्या की बात कबूली। इसके बाद चार और युवकों को पुलिस ने हिरासत में लिया। इनमें एक हिंदु युवक नागेश शर्मा भी था। रात से क्षेत्र के लोगों में रोष था। उनका कहना था कि हिंदू होने की वजह से ही दबाव बना और पुलिस ने उसे छोड़ दिया जो कि पूरी तरह से गलत है।

यह भी पढ़ें: अमर्यादित टिप्पणी पर बिजनौर में बवाल, धर्मस्थल में तोडफ़ोड़

आज सुबह ईद की नमाज पढऩे के बाद बड़ी संख्या में लोगों ने थाने का रुख किया। इनके साथ में महिलाएं और बच्चे भी पहुंचे। यहां इन्होंने पुलिस पर गलत कार्रवाई का आरोप लगाते हुए थाने पर पथराव कर दिया।

Edited By: Dharmendra Pandey