लखनऊ, जेएनएन। देश का सबसे आधुनिक स्टेशन बनने जा रहे गोमतीनगर रेलवे स्टेशन पर अब पहले से कहीं अधिक ट्रेनों का लोड होगा। रेलवे अब गोमतीनगर स्टेशन को पांच की जगह छह प्लेटफार्मों वाला बनाएगा। पहले गोमतीनगर को पांच प्लेटफार्मों वाला स्टेशन बनाने का प्रस्ताव था। स्टेशन की नई डिजाइन को नेशनल कंस्ट्रक्शन बिल्डिंग कॉरपोरेशन (एनबीसीसी) ने स्वीकृति दे दी है। इसके बाद रेलवे की निर्माण इकाई ने प्लेटफॉर्म बनाने का काम  शुरू भी कर दिया है। 

रेल भूमि विकास प्राधिकरण (आरएलडीए) के साथ मिलकर एनबीसीसी गोमतीनगर स्टेशन को 1910 करोड़ रुपये से पीपीपी मॉडल के तहत विश्वस्तरीय बना रहा है। रेलवे की ओर से 350 करोड़ रुपये के पहले चरण का काम शुरू हो गया है। अभी यहां पर कुल तीन प्लेटफार्म हैं। करीब 40 एकड़ भूमि में से 20 एकड़ भूमि पर स्टेशन भवन का निर्माण कराया जाएगा। 

रोजाना 190 ट्रेनों का हो सकेगा संचालन
गोमतीनगर स्टेशन को अभी रोजाना 125 से 150 ट्रेनों की क्षमता के हिसाब से बनाया जा रहा है, जबकि एक और प्लेटफार्म बढऩे से अब प्रतिदिन गोमतीनगर स्टेशन से 180 से 190 ट्रेनों के संचालन की क्षमता हो जाएगी। रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक चारबाग स्टेशन पर अभी करीब 290 और लखनऊ जंक्शन की 40 ट्रेनों के दबाव को कम करने के लिए गोमतीनगर स्टेशन की क्षमता को बढ़ाया जा रहा है। 

ये होगी खासियत 

  • कोलकाता एयरपोर्ट की तर्ज पर प्रथम तल पर प्रस्थान की सुविधा
  • भूतल से बाहर से आने वाले यात्री एस्केलेटर, लिफ्ट और सीढिय़ों से बाहर आएंगे
  • स्टेट ऑफ आर्ट टेक्नोलॉजी से 2.60 लाख वर्गफीट में बनेगा आकर्षक स्टेशन भवन
  • तीन नए प्लेटफार्मों का होगा निर्माण
  • रोजाना 40 हजार यात्रियों की क्षमता के लिए होगा तैयार 
  • यात्रियों को भीड़ से बचाने के लिए बनेगा सेग्रीगेटेड रास्ता
  • चार मंजिला शॉपिंग मॉल के अलावा एमपी थियेटर की सुविधा
  • मेडिकल रूम भी होगा, जहां बीमार यात्रियों को रखा जाएगा
  • विश्रामालय और प्रतीक्षालय के अलावा रेस्त्रां व आरक्षण केंद्र की सुविधा भी होगी 
  • नया कानकोर्स, यात्री लाउंज, पैदल उपरिगामी पुल, लिफ्ट, एस्केलेटर, जैसी सुविधा
  • खानपान, अमानती सामान घर, एटीएम और दिव्यांग मित्र सुविधाएं
  • स्टेशन भवन के बेसमेंट में पार्किंग का निर्माण

 

Posted By: Anurag Gupta