लखनऊ, जेएनएन। CM Yogi Adityanath in Jaipur: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath)  गोरखपुर के बाद गुरुवार को जयपुर के दौरे पर थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जयपुर के पवन धाम पंच पीठ, (Pawan Dham Panch) विराटनगर में आचार्य सोमेन्द्र शर्मा (Aacharya Somendra Sharma) के चादरपोशी कार्यक्रम में शामिल हुए। इससे पहले उन्होंने आचार्य धर्मेन्द्र (Aacharya Dharmendra) की समाधि पर पुष्पांजलि अर्पित की।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हम सब जानते हैं कि समर्थ गुरु रामदास जी ने एक अखंड हिंदवी साम्राज्य के लिए छत्रपति शिवाजी जैसा सर्वश्रेष्ठ महान योद्धा देश को दिया था। उसी परंपरा अनुरूप भक्ति शक्ति की खोज के लिए राजस्थान में इस विराटनगर में श्री पंचखण्डपीठ ने अग्रणी भूमिका निभाई है। भारत विभाजन के समय उस समय विभाजन का विरोध में जो संतो का आंदोलन चला,उसमे भी इस पीठ की अग्रणी भूमिका थी।

योगी आदित्यनाथ ने कहा आचार्य धर्मेन्द्र महराज उस आंदोलन में अग्रणी थे। देश के हित मे नागरिक का क्या दायित्व होना चाहिए। उस आंदोलन में श्री पंच पीठ ने अग्रणी भूमिका निभाई। 1966 के गोरक्षा आंदोलन में श्री पंच पीठ ने परंपरा निभाई। तब आचार्य धर्मेन्द्र ने गौशाला के नाम पर एक सीख दी थी,इसी से गौरक्षा की परंपरा से आमजनमानस आगे जुड़ा।

उन्होंने कहा कि श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन 1949 से शुरू हुआ। पूरे देश में विश्व हिंदू परिषद के माध्यम से धार दी गई, लेकिन संतो ने बिना फल की इच्छा के इसे आगे बढ़ाया। आज तो अयोध्या में वो साकार हो रहा है। वहां पर अब तक 50 फीसदी से ज्यादा कार्य हो चुका है। इसके बाद जब आचार्य धर्मेंद्र अयोध्या पधारे तो उनकी खुशी का ठिकाना नही रहा। संतों ने अपने कर्तव्यों का हमेशा पालन किया। सम विषम परिस्थितियों में किसी की परवाह नहीं की। इसी का परिणाम है कि विराट हिन्दू समाज आज पूज्य आचार्य जी का सम्मान करता है। सनातन धर्म के प्रति किये गए उनके कार्य उन्हें हमेशा हमारे बीच बनाये रखेगा। आज भले ही वो हमारे बीच नहीं हैं।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सनातन धर्म की रक्षा के लिए हर आंदोलन में आचार्य धर्मेन्द्र जी ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया। गोरक्षपीठ के साथ उनका सम्बंध तीन पीढिय़ों का था, मैं उन्हें गोरक्षपीठ की तरफ से उन्हें नमन करता हूं। मुझे प्रसन्नता है कि आचार्य जी की परंपरा को स्वामी सोमेनद्र ने निर्वाहन करने के लिए प्रण लिया गया है। स्वामी सोमेंद्र महराज़ आचार्य जी की परंपरा को आगे बढ़ाएंगे। उनके प्रति और श्री पंचपीठ के साथ हमारी सद्भावना है। आप सभी भक्तों, शुभचिंतकों के प्रति अपना आभार प्रकट करता हूं।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को श्री पंचकुंड पीठ विराट नगर में पीठाधीश्वर आचार्य स्वामी धर्मेन्द्र महाराज के 19 सितंबर को देवलोकगमन के बाद उनके उत्तराधिकारी पुत्र सोमन्द्र शर्मा की चादरपोशी की। उन्होंने जयपुर में सबसे पहले आचार्य धर्मेन्द्र की समाधि पर पुष्पांजलि अर्पित की। पीठाधीश्वर स्वामी धर्मेन्द्र महाराज के ब्रह्मलीन होने के बाद स्वामी धर्मेन्द्र के पुत्र सोमेन्द्र शर्मा उनकी गद्दी पर विराजमान होंगे।

सीएम योगी आदित्यनाथ आज आश्रम में आचार्य सोमेन्द्र शर्मा शर्मा के चादरपोशी कार्यक्रम में शामिल होंगे। इस कार्यक्रम में देशभर के संत और मठाधीश शामिल थे। सीएम योगी आदित्यनाथ विराटनगर में पावनधाम श्री पंचखण्ड पीठ में चादरपोशी व संत समागम कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बाद भंडारे में भी शामिल हुए। इसके बाद वह लखनऊ के लिए भी रवाना गए।

इससे पहले सीएम योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से जयपुर के लिए रवाना हुए। जयपुर एयरपोर्ट पर उनका स्वागत किया गया। इसके बाद वहां से वह हेलिकाप्टर के जरिए विराटनगर पहुंचे। इस दौरान अलवर के सांसद महंत बालक नाथ भी सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ थे।

Edited By: Dharmendra Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट