कानपुर देहात, जागरण संवाददाता : बोर्ड परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन कार्य पांचवें दिन भी नहीं हो सका। दोनों केंद्रों पर पहुंचे शिक्षक नेताओं के हंगामे के बीच शिक्षक मूल्यांकन की हिम्मत नहीं जुटा सके। वहीं सुरक्षा के मद्देनजर दोनो केंद्रों पर पुलिस बल तैनात रहा।

पिछले पांच दिनों से शिक्षक संघ के सभी गुट पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल करने, वित्त विहीन शिक्षकों को मानदेय व सीटी से एलटी संविलियन आदि लंबित मांगों के निदान के लिए बोर्ड परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन का बहिष्कार कर रहे हैं। पांचवें दिन अकबरपुर केंद्र पर पहुंचे शिक्षक विधायक राज बहादुर सिंह चंदेल ने आर-पार की लड़ाई का ऐलान किया। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ (पाण्डेय गुट) के प्रदेशीय महामंत्री श्रीकांत द्विवेदी ने समस्याओं का निराकरण नहीं होने तक बहिष्कार जारी रखने की बात कही। वित्तविहीन शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष ओम प्रकाश बागी भी शिक्षकों का हौसला बढ़ाने पहुंचे। पांडेय गुट के जिलाध्यक्ष सुरेश मिश्रा, मंत्री कुंज बिहारी दीक्षित, आदित्य चतुर्वेदी आदि रहे। सुरक्षा के मद्देनजर भारी पुलिस फोर्स व सीओ मौजूद रहे। पुखरायां के जीजीआईसी में बने मूल्यांकन केंद्र पर शिक्षक विधायक ने शिक्षकों का हौसला बढ़ाया। चंदेल गुट के प्रदेशीय मंत्री अमर सिंह सचान, एसके शुक्ला, प्रशांत कटियार, वित्त विहीन शिक्षक संघ के दृगपाल सिंह, केशव सिंह, राम मिश्रा, रामफल कटियार ने बहिष्कार जारी रखने का ऐलान किया। माध्यमिक शिक्षक संघ शर्मा गुट के जिलाध्यक्ष वीके मिश्रा की अगुवाई में पहुंचे शिक्षक अन्य गुटों के बहिष्कार के चलते कापियां जांचने की हिम्मत नहीं जुटा सके। इस गुट ने गुरुवार को बहिष्कार वापस लिया था। अकबरपुर केंद्र के उप नियंत्रक भारत सिंह ने बताया कि शुक्रवार को 73 के सापेक्ष 65 डीएचई व 693 के सापेक्ष 495 परीक्षक उपस्थित हुए। सुरक्षा के मद्देनजर एसडीएम घनश्याम व सीओ आलोक कुमार पूरे समय मौजूद रहे।