गाजियाबाद, जागरण संवाददाता। त्योहारी सीजन में चाक चौबंद सुरक्षा के दावों की पोल खोलते हुए असलहे से लैस बदमाशों ने शुक्रवार को दिनदहाड़े पाश इलाके नेहरूनगर थर्ड के ई ब्लाक में कारोबारी की पत्नी व बेटी को बंधक बनाकर 24 लाख की डकैती को अंजाम दिया है। पति का नाम लेकर घर में घुसे बदमाशों ने विरोध करने पर कारोबारी की पत्नी के सिर में बट मारकर लहूलुहान कर दिया।

दोनों को गन प्वाइंट पर लेकर सात लाख रुपये और 17 लाख रुपये के गहने लूट कर फरार हो गए। वारदात के बाद एसएसपी मुनिराज जी और एसपी सिटी प्रथम निपुण अग्रवाल फारेंसिक टीम व श्वान दस्ते के साथ मौके पर पहुंचकर जांच कर रहे हैं।

पहले तीन आए, चौथा टेप लाया, पांचवा नीचे खड़ा रहा

यहां रहने वाले रमन सरीन की बुलंदशहर रोड औद्योगिक क्षेत्र स्थित फर्म है। शुक्रवार को वह बेटे नमन के साथ फैक्ट्री गए थे और घर पर पत्नी गीता व बेटी विधि थीं। परिवार प्रथम तल पर रहता है और भूतल खाली है। दोपहर बाद पौने दो बजे गेट पर आवाज आई कि सरीन साहब ने जरूरी दस्तावेज लेने के लिए भेजा है। गीता के मुताबिक उन्होंने गेट खोला तो यहां तीन लोग खड़े थे, जिन्हें वह नहीं पहचानती थीं।

ये भी पढ़ें- Fire in Noida: नोएडा की बहुमंजिला फैक्ट्री में लगी भीषण आग, 14 दमकल मौके पर; राहत व बचाव कार्य जारी

बेटी और मां पर पिस्टल से हमला

उन्होंने मना करते हुए गेट बंद करने का प्रयास किया तो आरोपित धक्का देकर अंदर आ गए। गीता ने शोर मचाया तो एक बदमाश ने पिस्टल की बट उनके सिर व नाक में मार दी। इसी बीच चौथा व्यक्ति टेप लेकर आया। बदमाशों ने गोली मारने की धमकी दे गीता से अलमारियों की चाबी ली और फिर उन्हें व उनकी बेटे विधि को बंधक बना लिया।

हाथ-पैर बांधे

हाथ-पैर और मुंह पर टेप चिपकाकर एक कमरे में बंद कर सात लाख रुपये और 17 लाख रुपये के गहने लूटे और फरार हो गए। पांचवा बदमाश निगरानी के लिए नीचे खड़ा था।

बेटी की शादी के लिए इकट्ठे कर रहे थे गहने

रमन ने बताया कि बेटी की शादी अगले माह होनी थी, जिसके लिए एक-एक कर गहने बनवाकर रखे थे। 15 दिन पहले पिता राजकुमार का बीमारी के चलते निधन हो गया था, जिस कारण शादी की तारीख आगे बढ़ा दी थी। उन्होंने बताया कि छोटे भाई पंकज सरीन ने किसी काम के लिए सात लाख रुपये उनके पास रखे थे।

बदमाश उन्हें भी ले गए। बेखौफ बदमाश पौन घंटे तक घर खंगालते रहे। ढाई बजे के करीब बदमाश फरार हुए, जिसके बाद विधि और गीता ने बड़ी मुश्किल से खुद को बंधनमुक्त किया और रमन व पुलिस को सूचना दी।

ये भी पढ़ें- जीवन रक्षक दवाओं पर मुलायम सिंह यादव, हालत अभी भी नाजुक; अस्पताल से आया ताजा अपडेट

पैदल कौन आया था

वारदात के बाद पहुंची पुलिस ने गली में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज खंगाली तो वारदात के समय ही दो बाइकों पर चार संदिग्ध युवक गली में घूमते दिखे। घर के पास लगे कैमरे से पुष्टि हुई कि लूट को इन्होंने ही अंजाम दिया है। फुटेज में एक और व्यक्ति दिखा, जो पैदल ही आया है और वारदात के बाद पैदल ही फरार हुआ है। पुलिस पैदल आने वाले बदमाश पर फोकस किए हुए है।

आसपास का लग रहा आरोपित

ऐसा लग रहा है कि यह व्यक्ति पास से ही आया है और अगर इसकी पहचान हो गई तो बहुत जल्द वारदात का पर्दाफाश हो जाएगा। हालांकि कयास यह भी लगाए जा रहे हैं कि पुलिस को गुमराह करने के लिए बदमाशों ने यह रणनीति अपनाई हो। घर से पहले एक बदमाश बाइक से उतरकर पैदल ही घर तक आया है।

पुलिस कई एंगल पर जांच कर रही है, लेकिन प्राथमिक जांच में यह सामने आया है कि वारदात में करीबी शामिल है। वारदात को अंजाम देने से पहले मकान की रेकी की गई और बदमाशों को यह भी पता था कि घर पर मां-बेटी अकेली हैं।

कई एंगल से जांच जारी

एसएसपी मुनिराज जी ने बताया कि घटनास्थल से साक्ष्य इकट्ठे किए हैं। करीबी के शामिल होने समेत कई एंगल पर छानबीन कर रहे हैं। सर्विलांस सेल और क्राइम ब्रांच समेत तीन टीमों को लगाया है। बदमाशों को गिरफ्तार कर जल्द पर्दाफाश खरेंगे।

Edited By: Geetarjun

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट