फिरोजाबाद जागरण टीम। लोगों से ठगी करने वाले अब खाकी वर्दी का उपयोग कर रहे हैं। वे पुलिस को रौब दिखाकर आभूषण और नकदी लूट रहे हैं। शनिवार को टूंडला पुलिस ने एक फर्जी इंस्पेक्टर और शिकोहाबाद पुलिस ने तीन फर्जी पुलिसकर्मी गिरफ्तार किए हैं। इनके कब्जे से कार, बाइकें और साइलेंसर बरामद किया है।

मुठभेड़ में तीनों को गिरफ्तार किया

सीओ शिकोहाबाद कमलेश कुमार ने रविवार दोपहर थाने पर बताया कि रात दो बजे भूढ़ा नहर पुल पर चेकिंग के दौरान नहर पटरी पर तीन बाइक पर तीन युवक आते दिखाई पड़े। भागने का प्रयास करने पर मुठभेड़ में तीनों को गिरफ्तार किया गया। युवकों ने अपने नाम कुलदीप निवासी नगला दुर्जन, औंछा जिला मैनपुरी, वसीम निवासी रामपुर, चंडौस जिला अलीगढ़ और सरताज निवासी बकायन, हसायन जिला हाथरस बताया।

उनके कब्जे से 24 हजार रुपये, साइलेंसर, दो तमंचे बरामद किए गए। आरोपितों ने बताया कि वे कारों से साइलेंसर चोरी करके बेचते थे। सीओ ने कुलदीप को गैंग का मुखिया बताते हुए कहा कि वह साथियों के साथ मिलकर फर्जी पुलिस बनकर राहगीरों से टप्पेबाजी भी करते थे। 

कीमती होती है साइलेंसर की मिट्टी

सीओ ने बताया कि साइलेंसर में एक विशेष किस्म की मिट्टी होती है, जिसकी विदेश में कीमत 30 हजार रुपये प्रति किलो है। इसका इस्तेमाल सफेद सोना बनाने में भी होता है। इसीलिए आरोपित कार के साइलेंसर को ही निशाना बनाते थे। मिट्टी को वे सोनभद्र में व्यापारी को बेचते थे। व्यापारी की तलाश की जा रही है।

टूंडला में फर्जी इंस्पेक्टर गिरफ्तार, रखी थी वर्दी

सीओ टूंडला हरिमोहन सिंह ने बताया कि रात साढ़े नौ बजे पुलिस टीम गांव जरौलीकला मोड़ पर राहगीरों से अवैध वसूली करने की सूचना पर पहुंची तो वहां फर्जी इंस्पेक्टर बना युवक खड़ा मिला। पूछताछ में युवक ने पहले पुलिस पर रौब जमाने की कोशिश की। थाने पर पूछताछ में उसने हकीकत बता दी।

उसने अपना नाम मुकेश यादव निवासी कड़कड़ मांडल साहिबावाद जिला गाजियाबाद बताते हुए कहा कि वह टोल टैक्स बचाने के लिए इंस्पेक्टर का आइकार्ड छपवा लिया था और वर्दी भी सिलवा ली। उसके पास से वैगनआर कार, दो पैनकार्ड, पहचान पत्र, ड्राइविंग लाइसेंस, तीन एटीएम, मेट्रो यात्रा कार्ड और 2200 रुपये बरामद किए गए।

सीओ ने बताया कि उसके पास मिले दो आइकार्ड में दिल्ली और गाजियाबाद तथा पहचान पत्र पर सैफई इटावा लिखा था। सीओ ने बताया कि आरोपित युवक इंस्पेक्टर का फर्जी आइकार्ड दिखाकर लोगों से ठगी करता था। शनिवार को वह इटावा से गाजियाबाद लौटते समय मां वैष्णो देवी मंदिर के दर्शन करने आया था। इस बीच उसने राहगीरों से अवैध वसूली शुरू कर दी। गिरफ्तार करने वाली टीम में इंस्पेक्टर राजेश पांडेय, चौकी इंचार्ज गौरव शर्मा फोर्स के साथ शामिल थे। गिरफ्तार फर्जी इस्पेक्टर का वजन सवा सौ किलो के लगभग बताया गया है।

ये भी पढ़ें... Agra Top News: कैशियर ने किया छात्रा से चार दिन तक दुष्कर्म, एक क्लिक में पढ़ें आगरा और आसपास की टाप 7 खबरें

Edited By: Abhishek Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट