Move to Jagran APP

UPPCL: यूपी के इस जिले में लगेंगे दो लाख स्मार्ट बिजली मीटर, पॉवर कॉरपोरेशन ने एक संस्था को सौंपी इसकी जिम्मेदारी

Smart Meter यूपी के ग्रामीण इलाकों से बिजली चोरी की अधिकतर घटनाएं आती हैं। बिजली चोरी रोकने के लिए नया सिस्टम शुरू किया जा रहा है। इसी क्रम में यूपी के इस जिले में स्मार्ट बिजली मीटर लगाने का कार्य शुरू कर दिया गया है। बिजली चोरी पर रोक लगाने गड़बड़ बिलिंग से छुटकारा और बिजली का कम उपयोग करने के उद्देश्य से यह कदम उठाया गया है।

By Jitendra Upadhyay Edited By: Riya Pandey Wed, 10 Jul 2024 04:03 PM (IST)
यूपी के इस जिले में स्मार्ट मीटर लगाने का कार्य शुरू (फाइल फोटो)

जागरण संवाददाता, भदोही। UPPCL: जिले में स्मार्ट बिजली मीटर लगाने का कार्य प्रारंभ हो गया। इसके लिए पावर कारपोरेशन ने जीएमआर नामक संस्था को जिम्मेदारी सौंपी है। बीते मंगलवार को इंदिरा मिल फीडर के सिविल लाइंस जलालुपुर मोहल्ला निवासी उपभोक्ता जुबैदा के घर पहला स्मार्ट मीटर लगाया गया।

कार्यदायी संस्था के अनुसार जिले में दो लाख स्मार्ट मीटर लगाने का लक्ष्य है। इसके लिए तीन साल का समय निर्धारित किया गया है। फिलहाल इसकी विद्युत वितरण खंड (प्रथम) के इंदिरा मिल फीडर से शुरूआत कर दी गई है।

बिजली चोरी पर अंकुश समेत ये उद्देश्य

बिजली चोरी पर अंकुश लगाने, गड़बड़ बिलिंग से मुक्ति और बिजली का कम से कम उपयोग करने के उद्देश्य से पावर कारपोरेशन द्वारा यह कदम उठाया गया है। हालांकि यह बिजली उपभोक्ताओं के लिए बिल्कुल नया अनुभव है। इसे लेकर तरह तरह की बातें भी हो रही हैं।

सिम की तरह काम करता है स्मार्ट मीटर

कुछ लोगों का मानना है कि यह सामान्य मीटर के सापेक्ष महंगा साबित होगा जबकि विभागीय अधिकारियों का कहना है कि स्मार्ट बिजली मीटर प्रीपेड मोबाइल सिम की तरह ही काम करता है। जितने रुपये का रिचार्ज कराएंगे उतनी बिजली पाएंगे।

स्मार्ट मीटर लगाने का कार्य शुरू

नौ जुलाई को जीएमआर के क्षेत्रीय प्रमुख सुधीर कुमार सिंह, जिला इंचार्ज जीएमआर प्रणव दास, अवर अभियंता ज्योति प्रकाश, सुपरवाइजर रामनिवास वर्मा द्वारा विधिवत पूजा अर्चना के बाद स्मार्ट मीटर लगाने का कार्य शुरू किया गया।

सुपरवाइजर रामनिवास वर्मा ने बताया कि भदोही जिले में दो लाख स्मार्ट मीटर लगाने का लक्ष्य है। इसमें करीब तीन साल का समय लगेगा। बताया यह मीटर पूरी तरह निश्शुल्क लगाया जा रहा है। इसकी दस साल तक गारंटी है। यह मीटर सीधे कंपनी के कनेक्ट होगा। इसमें छेड़छाड़ होने पर पकड़ में आ जाएगा।

यह भी पढ़ें- यूपी के इस जिले में घर-घर स्मार्ट मीटर अभियान पर लगा ब्रेक, पहले ही चरण में होना था काम; अब करना होगा इंतजार