जागरण संवाददाता, बैरिया (बलिया) : छपरा-बलिया-औड़िहार रेल मार्ग के दोहरीकरण के क्रम में औड़िहार से बलिया तक का कार्य पूरा होने की स्थिति में है लेकिन मांझीघाट से बांसडीह रेलवे स्टेशन तक दोहरीकरण का कार्य अधूरा है। काफी दिनों से कार्य ठप पड़ा है। अब 2022 तक दोहरीकरण कार्य पूरा होने में संशय उत्पन्न हो गया है। इसके अलावा सुरेमनपुर व बकुल्हां सहित अधिकांश रेलवे स्टेशनों पर प्लेटफार्म दो का निर्माण अधूरा पड़ा है। रेवती से सुरेमनपुर तक दूसरे ट्रैक को बिछाने के लिए मिट्टी भराई का काम भी पूरा नहीं हुआ। सुरेमनपुर से मांझी पुल तक दूसरा रेलवे ट्रैक बिछा तो दिया गया है, मगर ट्रैक पर न गिट्टी डाली गई है और न ही नट बोल्ट से कसा गया है।

समय से पूरा कराएंगे

दोहरीकरण का कार्य

बलिया से छपरा तक रेलवे लाइन के दोहरीकरण के कार्य में अपेक्षित गति नहीं होने पर सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने कहा कि मैंने रेलवे के बड़े अधिकारियों से बात की है। कोरोना के चलते कुछ गतिरोध उत्पन्न हुआ था। अब कार्य तेजी से होगा और समय से यह परियोजना पूरी होगी।

अशोक कुमार, जनसंपर्क अधिकारी, रेलवे वाराणसी के अनुसार कोरोना संक्रमण के चलते काम कुछ धीमा था, अब कार्य गति पकड़ेगा और समय से दोहरीकरण का कार्य पूरा होगा। एक सप्ताह से कार्य तेजी से हो रहा है।

Edited By: Jagran