प्रतापगढ़, जेएनएन। शराब के खिलाफ अभियान में बेहद सक्रिय रहे टीवी चैनल पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत के मामले में सोमवार को हत्या का मामला दर्ज किया गया है। रविवार देर रात के इस मामले पर काफी बवाल होने के बाद प्रतापगढ़ पुलिस ने हत्या का केस दर्ज कर लिया है। पत्रकार ने अपने ऊपर हमले की आशंका जताते हुए एडीजी प्रयागराज जोन को पत्र भी भेजा था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद पुलिस ने हत्या का मुकदमा दर्ज किया है।

प्रतापगढ़ में रेलवे स्टेशन के पास रहने वाले एक चैनल के पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत के मामले में हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। रविवार की रात नगर कोतवाली क्षेत्र के सुखपाल नगर के पास सुलभ की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। सुलभ की पत्नी रेणुका श्रीवास्तव का आरोप है कि उनके पति की हत्या की गई है। उन्होंने एडीजी प्रयागराज प्रेम प्रकाश से से घटना की सीबीआइ जांच कराने की मांग की। इस पर एडीजी ने आश्वासन दिया कि सीबीआइ से जांच कराने की संस्तुति वह शासन से करेंगे। उनकी मौत पर कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी उत्तर प्रदेश सरकार पर तंज कसा है।

प्रतापगढ के एक टीवी चैनल के पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की रविवार देर रात संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। वह घायल अवस्था में रविवार की रात करीब 10 बजे नगर कोतवाली क्षेत्र के कटरा रोड पर मिले थे। राहगीरों की सूचना पर पुलिस राजकीय मेडिकल कॉलेज चिकित्सालय ले आई, यहां पर चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। करीब 40 वर्षीय सुलभ स्टेशन रोड सहोदर पश्चिम के रहने वाले थे। उनके चेहरे पर चोट के निशान हैं। सुलभ के परिजन हत्या की आशंका जता रहे हैं। हालांकि इन लोगों ने भी अभी तक किसी का नाम नहीं लिया है। उनके साले रिंकू श्रीवास्तव ने हत्या की आशंका जताई है हालांकि देर रात तक कोई तहरीर पुलिस को नहीं दी गई। परिवार के लोगों का कहना है कि सुलभ का सुनियोजित रूप से कत्ल किया गया है।

टीवी पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत के बाद एडीजी प्रयागराज जोन एडीजी प्रेम प्रकाश के साथ डीएम व एसपी प्रतापगढ़ उनके आवास पर पहुंचे। इन सभी ने सुलभ श्रीवास्तव की पत्नी से बातचीत की। एडीजी ने कहा कि हत्या या दुर्घटना से मौत के मामले में स्थिति पोस्टमार्टम के बाद साफ हो पाएगी। हम रिपोर्ट के इंतजार में हैं।

एडीजी जोन को भेजा था शिकायती पत्र

सुलभ ने एक दिन पहले ही एडीजी प्रयागराज जोन प्रेम प्रकाश को शिकायती पत्र भेजकर अपनी व अपने परिवार की जान को खतरा बताया था। इसमें बताया था कि पिछले दिनों प्रतापगढ़ जनपद के विभिन्न थाना क्षेत्रों मैं अवैध शराब का जखीरा पकड़े जाने की घटना का कवरेज उन्होंने किया था। इसके बाद 9 जून को न्यूज़ चैनल के डिजिटल प्लेटफार्म पर एक खबर भी चलाई थी। जिसे लेकर कुछ लोगों ने बताया था कि शराब माफिया उस खबर को लेकर उनसे नाराज हैं। पत्र में यह भी बताया गया था कि पिछले 2 दिनों से जब भी वह घर से बाहर निकलते हैं तो ऐसा प्रतीत होता है कि कोई उनका पीछा कर रहा है। ऐसे में उन्हें लगता है कि कुछ शराब माफिया, जो उनकी खबर से नाखुश हैं, उन्हें या उनके परिवार को नुकसान पहुंचा सकते हैं। उनका परिवार भी डरा-सहमा है। इस संबंध में पुलिस का कोई अधिकारी कुछ नहीं बोल रहा है।

पत्नी रेणुका को अब अपनी और परिवार की चिंता

पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की पत्नी रेणुका ने बताया कि वह तीन दिन से काफी परेशान थे। शराब माफिया के खिलाफ खबर चलने से वह काफी बेचैन थे। लगता है कि उनको काफी धमकी मिली थी। सुलभ को अपनी और परिवार की चिंता थी। शहर में कई लोगों से सुलभ को खतरा था। इसको लेकर उन्होंने एडीजी जोन प्रेम प्रकाश के पास शिकायत भी की थी। सुलभ ने अपनी सुरक्षा की भी मांग की थी। उनके ऊपर बाहर नजर रखी जा रही थी। लगातार कुछ लोग सुलभ का पीछा करते थे। रेणुका ने कहा कि मेरे तो दो छोटे-छोटे बच्चे हैं, अब हम क्या करेंगे। सुलभ की पत्नी रेणुका ने न्याय की मांग की है।

शराब माफिया की तरफ से मिली थी धमकी

प्रतापगढ़ शहर के स्टेशन रोड पूर्वी सहोदर मोहल्ले के रहने वाले 45 वर्षीय सुलभ श्रीवास्तव न्यूज़ चैनल के संवाददाता थे। उन्होंने 12 जून को एडीजी प्रयागराज को पत्र भेजकर अपनी जान पर खतरा जताया था। उन्होंने पत्र में यह जिक्र किया था कि नौ जून को उन्होंने इंटरनेट मीडिया पर अवैध शराब के कारोबार में लिप्त माफियाओं के संबंध में खबर चलाई थी, जिस पर उन्हें धमकी मिली थी।

पत्रकार मौत में सियासी गर्मी, ममता बनर्जी ने भी किया ट्वीट

प्रतापगढ़ निवासी पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत के मामले ने सियासत गर्मा दी है। विपक्षी दल सपा, कांग्रेस सरकार पर हमलावर हो चले हैं। इन दलों की बात तो समझ आती है अब पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री भी इसी कतार में आ गई हैं। उन्होंने ट्वीट कर पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की हत्या की निंदा की है।

प्रियंका गांधी वाड्रा, संजय सिंह इत्यादि ने सुबह ही इस मामले में ट्वीट कर सरकार पर निशाना साधा था। इस मामले में पुलिस ने जहां पत्रकार की पत्नी की तहरीर पर हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है वही एडीजी ने कहा है कि वह मामले में सीबीआइ जांच की संस्तुति राज्य सरकार से करेंगे।

सांसद ने सीएम को लिखा पत्र

पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत के मामले में प्रतापगढ़ के सांसद भाजपा के संगम लाल गुप्ता ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर प्रकरण की निष्पक्ष जांच की मांग की है। उन्होंने पत्र में शराब माफिया का जिक्र किया है। सांसद ने कहा कि वह पत्रकार सुलभ की हत्या से व्यथित और आहत हैं।

प्रियंका गांधी ने किया ट्वीट

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी प्रतापगढ़ में पत्रकार की मौत पर उत्तर प्रदेश सरकार पर तंज कसा है। उन्होंने ट्वीट किया और उत्तर प्रदेश में अब तो शराब माफिया का राज बताया है।

प्रथम दृष्टया एक्सीडेंट से मौत : पुलिस

पुलिस का कहना है कि प्रथम दृष्टया सुलभ श्रीवास्तव की मौत एक्सीडेंट से हुई है। प्रतापगढ़ के प्रभारी एसपी धवल जायसवाल का कहना है कि प्रारंभिक जांच पड़ताल में यही बात सामने आई है कि मृतक हादसे का शिकार हुए। प्रत्यक्षदर्शियों ने भी यही बात बताई है। जांच पड़ताल की जा रही है। अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी सुरेंद्र द्विवेदी का कहना है कि घटनास्थल पर जांच में पता चला है कि सुलभ की बाइक सड़क पर खंभे व हैंडपंप से टकरा गई थी। ईंट भट्ठा के मजदूरों ने उन्हें सड़क के किनारे करने के बाद उनके मोबाइल फोन के जरिए ही फोन से घरवालों को खबर दी थी। फिलहाल हर पहलू पर जांच हो रही है। सुलभ के भाई लखनऊ में नौकरी करते हैं, देर रात तक उनके आने का इंतजार किया गया। उनके आने के बाद मुकदमा दर्ज कराने की कार्रवाई होगी। घटना स्थल पर मौजूद सीओ सिटी अभय पांडे का कहना था कि घटना की तहरीर नहीं मिली है। परिवार वालों की आशंका के आधार पर इस मामले की जांच की जा रही है। यह हादसा है या हत्या, पुलिस की जांच में सामने आ जाएगा।रात करीब एक बजे पोस्टमार्टम की प्रक्रिया शुरू की गई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें:SP Pratapgarh: लम्बे समय से नियंत्रण में नहीं प्रतापगढ़ में क्राइम, 30 वर्ष में 67 एसपी ने किया काम

Edited By: Dharmendra Pandey