आगरा, जागरण संवाददाता। आगरा में शाहगंज की महिला चिकित्सक को ब्लैकमेल कर पांच लाख रुपये चौथ मांगी गई थी। मामले में पुलिस ने एक आरोपित को जेल भेजा था। पुलिस ने पांच आरोपितों के विरूद्ध आरोप पत्र न्यायालय में दाखिल कर दिया है।

महिला डाक्टर ने दर्ज कराया था मुकदमा

महिला चिकित्सक ने इस वर्ष 16 मार्च को शाहगंज थाने में अभियोग दर्ज कराया था। जिसमें शाहगंज के ऋृषि मार्ग निवासी महेश, फतेहगढ़ केेंद्रीय कारागार में बंद उसके भाई सुधीर समेत सात लोगों को आरोपित बनाया था। महिला चिकित्सक का आरोप था कि महेश और उसके स्वजन ने पार्टी के बहाने घर पर बुलाकर उसे बेहोश कर दिया। जिसके बाद उनके आपत्तिजनक फोटो खींच लिए। आरोपितों ने उक्त फाेटो सावर्जनिक करने की धमकी दी। ब्लैकमेल कर पांच लाख रुपये मांगे।

आपत्तिजनक तस्वीरें हुई थीं वायरल

रुपये नहीं देने पर आरोपितों ने उनके फोटो वायरल कर दिए। उन्हें जेल में बंद सुधीर से फोन कराया। उन्हें जान से मारने धमकी दी गई। दहशत के चलते महिला चिकित्सक राजस्थान चली गई थीं। पुलिस ने आरोपित महेश को जेल भेजा था। प्रभारी निरीक्षक जसवीर सिंह सिरोही ने बताया कि महिला चिकित्सक से चौथ मांगने के मामले में महेश कुमार उसकी पत्नी वंदना, साली सुमन, रेनू और बहन ममता सिंह के खिलाफ आरोप पत्र न्यायालय में प्रेषित किया गया है। उनके खिलाफ पर्याप्त साक्ष्य मिले थे। महिला चिकित्सक के फोटो वायरल किए गए थे। किरन देवी की नामजदगी गलत पाई गई।

ये भी पढ़ें;

Muzaffarnagar: रालोद कार्यकर्ताओं का खतौली में हंगामा, भाजपा नेताओं पर लगाए आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के आरोप

सुधीर के खिलाफ विवेचना जारी

प्रभारी निरीक्षक जसवीर सिंह सिरोही ने बताया कि आरोपित सुधीर सिंह फतेहगढ़ केंद्रीय कारागार में निरुद्ध है। उसका बी वारंट जेल में दाखिल किया गया था। वह आगरा न्यायालय में तलब होकर नहीं आया। जिसके लिए जेल प्रशासन को रिमांइडर भेजे गए थे। उसके खिलाफ विवेचना प्रचलित हैं। 

Edited By: Abhishek Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट