नई दिल्ली, टेक डेस्क। मेटा के इंस्टेंट मैसेजिंग एप्लिकेशन वॉटसऐप ने कुछ नए खतरों की सूचना दी है। इसके अलावा भारतीय साइबर सुरक्षा नोडल एजेंसी CERT-In ने भी एक हाई सिक्योरिटी अलर्ट जारी किया है, जिसमें यूजर्स को हैकर्स द्वारा डेटा चुराने की संभावना के बारे में चेतावनी दी गई है।

बता दें कि वॉटसऐप और भारतीय साइबर सुरक्षा एजेंसी CERT-In द्वारा जारी नोटिफिकेशन में भी दावा किया गया है कि यह समस्या v2.22.16.12 से पहले एंड्रॉयड और iOS के लिए वॉटसऐप को प्रभावित करती है।

हैकर्स कैसे करेंगे वॉटसऐप बग का दुरुपयोग

सरकारी एजेंसी का दावा है कि वॉटसऐप में कई खतरों की सूचना दी गई है, जिसका फायदा रिमोट हैकर्स टारगेट सिस्टम पर मनमाने कोड को निष्पादित करने के लिए उठा सकते हैं।

एजेंसी ने यह भी बताया है कि वॉटसऐप में यह समस्या integer overflow के कारण मौजूद है। इसका मतलब यह है कि कोई भी व्यक्ति वीडियो कॉल के जरिए रिमोट कोड को निष्पादित कर सकता है। इसके अलावा हैकर्स विशेष रूप से तैयार की गई वीडियो फ़ाइल भेजकर भी इसको कंट्रोल कर सकते है। जो उन्हें मनमाना कोड निष्पादित करने देगा। रिमोट कोड निष्पादन में, एक हैकर किसी और के कंप्यूटिंग डिवाइस पर रिमोटली कमांड निष्पादित कर सकता है।

यह भी पढ़ें- Festive Sale: सुबह ठंडे पानी से नहाने में लगता है डर, तो 1900 रुपये से भी कम कीमत पर ये गीजर्स ले आइए घर

रिमोट कोड एक्जीक्यूशन (RCE) आमतौर पर होस्ट द्वारा डाउनलोड किए गए मैलवेयर के कारण होता है जिसपर डिवाइस की भौगोलिक स्थिति का कोई असर नहीं पड़ता है। हाल ही में आए खतरे को CVE-2022-36934 कहा गया है, जिसे CVE पैमाने पर 10 में से 9.8 के गंभीर स्कोर के साथ रैक किया गया है।

समस्या से कैसे बचें

इन खतरो को वॉटसऐप के लेटेस्ट वर्जन में पैच कर दिया गया है। यूजर को केवल यह सुनिश्चित करना है कि उन्होंने मैसेजिंग एप्लिकेशन के लेटेस्ट वर्जन में अपडेट किया है।

यह भी पढ़ें- Amazon Sale 2022: 12000 से भी कम में मिल रहे हैं टॉप ब्रांड्स के ये फ्रिज, पाएं 9000 तक का तगड़ा डिस्काउंट

Edited By: Ankita Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट