नई दिल्ली, टेक डेस्क। ई कॉमर्स साइट उत्पादों को सिर्फ बेचती ही नहीं है बल्कि ग्राहकों को उन उत्पादों को खरीद कर उनका रिव्यू करने का भी अवसर प्रदान करती है। हालांकि ई कॉमर्स साइट उन लोगों के रिव्यू भी अपनी साइट पर प्रकाशित करती है जिन्होंने वो उत्पाद खरीदा भी नहीं है।

इन्हीं सब कारणों से इन ऑनलाइन शॉपिंग साइट पर कभी किसी उत्पाद का रिव्यू बढ़ा चढ़ाकर लिखा जाता है तो कभी अच्छे भले उत्पाद का खराब रिव्यू कर उसे घटिया साबित कर दिया जाता है।

इन फेक रिव्यू के कारण ग्राहक इनसे गुमराह हो जाते हैं, खराब उत्पाद को अच्छा समझ कर खरीद लेते हैं और अच्छे उत्पाद को खराब समझ कर खरीदते ही नहीं है।

भारत सरकार ने उठाया बड़ा कदम

इन्हीं सब को देखते हुए सरकार के विभाग BIS (Bureau of Indian Standards) की ओर से ऑनलाइन रिव्यू को लेकर गाइडलाइंस जारी की गयी थी जो अब लागू भी हो चुकी है। इन नई गाइडलाइंस के अनुसार, ऑनलाइन ई-कॉमर्स साइट को अब यह साफतौर पर बताना होगा कि उनकी वेबसाइट पर छपा किसी भी प्रोडक्ट का रिव्यू असली है या नहीं। इसके साथ ही उसकी रेटिंग भी सही है।

सरकार की इन नई गाइडलाइंस से ऑनलाइन फर्जी रिव्यू पर लगाम लग सकती  है। पिछले कई सालों में जैसे जैसे ऑनलाइन शॉपिंग का दायरा बढ़ा है वैसे ही इन साइट कंपनियों की ओर से फर्जी रिव्यू का चलन भी बढ़ गया है।

सरकार ने ये भी बताया है कि फिलहाल ऑनलाइन कंपनियों को इस बात की छूट दी गयी है कि वह अपनी साइट पर उत्पादों के रिव्यू का आकलन कर फेक रिव्यू को अपनी वेबसाइट से हटा दें। लेकिन अगर ऐसा नहीं होता तब इन गाइडलाइंस को अनिवार्य कर दिया जाएगा।

नई गाइडलाइंस क्या कहती है

  • अब अनुसार ऑनलाइन साइट पर रिव्यू अपनी प्रकाशन तिथि और रेटिंग के साथ ही उपलब्ध रहेंगे।
  • नए नियम के अनुसार ग्राहकों को साइट पर रिव्यू छप जाने के बाद उसमें संपादन का विकल्प नहीं मिलेगा।
  • अगर किसी भी साइट पर फेक रिव्यू मिला तो उस साइट पर जुर्माना लगाया जाएगा।

ग्राहको को क्या फायदा मिलेगा

  • इन नई गाइडलाइंस को ग्राहकों के हितों को ध्यान में रखकर ही बनाया गया है। अब जब साइट पर फेक रिव्यू प्रकाशित ही नहीं होंगे तो ग्राहकों को सभी उत्पादों के सही और सटीक रिव्यू मिलेंगे। इसी मकसद से इस फॉरमेट कि शुरुआत की गई थी।
  • ग्राहक भ्रमित नहीं होंगे इससे उन्हें उत्पादों को खरीदने में सहायता प्रदान होगी।
  • असली रिव्यू के कारण ग्राहकों के पास ख़रीदारी करने के लिए पहले से ज्यादा विकल्प खुल जाएंगे।
  • इससे हर शॉपिंग साइट की विश्वसनीयता भी बढ़ेगी।

यह भी पढ़ें- Tech Weekly Report: इस हफ्ते टेक की दुनिया में क्या रहा सबसे खास, जानिए सबके बारे में

Edited By: Kritarth Sardana

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट