Move to Jagran APP
Featured story

3 सेकेंड भर की वॉइस और AI क्रिएट कर देगा हू-ब-हू आवाज! AI voice cloning scam से ऐसे रहें सुरक्षित

एआई के इस दौर में आपको पहले से ज्यादा सावधान रहने की जरूरत है। स्कैमर्स एआई का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं। इन दिनों AI voice cloning scam स्कैमर्स का नया हथियार बना हुआ है। क्या आप यकीन कर सकते हैं कि आपकी 3 सेकेंड भर की आवाज के साथ एआई साइबर अपराधियों को आपकी हू-ब-हू आवाज क्रिएट कर दे सकता है।

By Shivani Kotnala Edited By: Shivani Kotnala Published: Wed, 24 Apr 2024 05:00 PM (IST)Updated: Wed, 24 Apr 2024 05:00 PM (IST)
3 सेकेंड भर की वॉइस और AI क्रिएट कर देगा हू-ब-हू आवाज!

टेक्नोलॉजी डेस्क, नई दिल्ली। क्या आप यकीन कर सकते हैं कि आपकी 3 सेकेंड भर की आवाज के साथ एआई साइबर अपराधियों को आपकी हू-ब-हू आवाज क्रिएट कर दे सकता है।

जी हां, पॉपुलर सॉफ्टवेयर सिक्योरिटी कंपनी मैकफी भी इस जानकारी को कंफर्म करती है। मैकफी (McAfee) पाता है कि 3 सेकेंड भर के ऑडियो के साथ एआई ऑरिजनल वॉइस का 85 प्रतिशत तक सही मैच तैयार कर सकता है।

ऐसे में क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि एक अनजान नंबर से आए कॉल पर हेलो... से ज्यादा बोलना आपको कितनी बड़ी मुसीबत में डाल सकता है?

एआई कहां से ले सकता है वॉइस डेटा

सवाल यह भी है कि एआई ऑरिजनल वॉइस के लिए वॉइस डेटा कहां से ले सकता है। दरअसल, भारत सहित 7 देशों में हुए एक सर्वे को लेकर रिसर्चर्स का दावा है कि आधे से ज्यादा व्यस्क खुद इस डेटा को शेयर करते हैं।

सर्वे के मुताबिक, 53 प्रतिशत व्यस्क किसी न किसी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर हफ्ते में एक बार अपने वॉइस डेटा को अपलोड करते हैं।

ये भी पढ़ेंः मम्मी-पापा बचाओ, बहुत मार रहे हैं! दर्द हो रहा है...आपका बच्चा नहीं! AI कर रहा है फोन पर बात

एआई वॉइस क्लोनिंग क्या है

एआई वॉइस क्लोनिंग स्कैमर्स का बिछाया नया जाल है। स्कैम के इस तरीके में एआई की मदद ली जाती है। स्कैमर पहले किसी व्यक्ति की हू-ब-हू आवाज को एआई से क्रिएट करवाएगा।

इसके बाद इस व्यक्ति के किसी अपने को कॉल किया जाएगा। कॉल कर फिरौती की रकम मांगी जाएगी और साथ में व्यक्ति की रोने-धोने की झूठी आवाज सुनाई जाएगी।

यह आवाज असल में एआई के जरिए क्रिएट करवाई जाएगी। इसके बाद व्यक्ति के परिवार वालों को तय समय तक एक मोटी रकम ट्रांसफर करवा ली जाएगी।

एआई वॉइस क्लोनिंग से कैसे रहें सुरक्षित

इस तरह के स्कैम के मामले देश में लगातार बढ़ रहे हैं। एक सर्वे के मुताबिक इस स्कैम में फंसे 77 प्रतिशत विक्टिम पैसा गंवा बैठते हैं। अब सवाल यह आता है कि एआई वॉइस क्लोनिंग से कैसे सुरक्षित रहा जाए। आप वॉइस डेटा के लीक होने को नहीं रोक सकते हैं, लेकिन ऐसी स्थिति में आपकी समझदारी काम आ सकती है-

  • अनजान नंबर से आने वाली कॉल को लेकर सावधान रहें
  • एक ही बार के कॉल में कभी भी पैसे ट्रांसफर करने की गलती न करें।
  • अनजान कॉलर की किसी बात पर आसानी से यकीन न करें, खुद सही नंबर पर कॉल करें।
  • कॉल पर किसी ऐसी स्थिति के लिए पहले से ही कोड वर्ड सेट रखें।

This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.