नई दिल्ली (हर्षित कुमार)। समार्टफोन यूजर्स के बढ़ते हुए तादाद और इंटरनेट के इस्तेमाल की वजह से फोन हैक होने की घटना बढ़ती जा रही है। लोग स्मार्टफोन का इस्तेमाल केवल बात करने या फिर सोशल मीडिया पर चैट करने के लिए ही नहीं करते हैं, आजकल स्मार्टफोन लोगों की जरूरत बनती जा रही है। लोग अपने बैंकिग, ऑनलाइन पेमेंट, खरीदारी आदि भी स्मार्टफोन से करने लगे हैं। ऐसे में स्मार्टफोन का हैक होना या जानकारी लीक होना यूजर्स के लिए परेशानी पैदा कर सकती है।

हमने इसके लिए टेक एक्सपर्ट विभा सचदेवा से बात की तो उन्होंने कहा, ''जब भी आप कोई एप अपने स्मार्टफोन में इंस्टॉल करते हैं तो पहले चेक कर लें कि वो एप गूगल प्ले स्टोर पर वेरिफाइड हैं कि नहीं। इसके अलावा आप थर्ड पार्टी एप अपने स्मार्टफोन में इंस्टॉल न करें। साथ ही किसी एप को गैर-जरूरी परमिशन न दें, क्योंकि अगर आप किसी एप को गैर-जरूरी परमिशन देते हैं तो ये आपके लोकेशन, कॉन्टैक्ट्स, आपकी रूचि, फोटो आदि की जानकारी इकठ्ठा कर लेते हैं, जिससे आपकी निजी जानकारी हैकर्स के पास जाने का खतरा बना रहता है।''

थर्ड पार्टी एप न करें इंस्टॉल

सबसे पहले आप अपने एंड्रॉयड स्मार्टफोन में कभी भी किसी थर्ड पार्टी एप को इंस्टॉल न करें। थर्ड पार्टी एप के जरिए हैकर्स आसानी से आपके स्मार्टफोन का डाटा चुरा सकते हैं। इसलिए हमेंशा वेरिफाइड एप ही गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करें।

एप को न दे गैर-जरूरी परमिशन

इसके अलावा आप किसी एप को इंस्टॉल करते समय उसे अपने कॉन्टैकट, फोटो, कैमरा आदि का एक्सेन न दें।किसी एप में अगर जरूरत हो तब ही उसमें एक्सेस दे। इसके अलावा अपने एंड्रॉयड फोन में गूगल प्ले प्रोटेक्ट को इनेबल कर लें।

ऐसा करने से काफी हद तक आपका स्मार्टपोन सुरक्षित रहेगा और हैक होने की संभावना नहीं के बराबर रहेगा। अगर आप चाहते हैं तो एंटी वायरस भी इंस्टॉल कर सकते हैं।

गूगल प्ले प्रोटेक्ट सर्विस को इनेबल करने के लिए फॉलो करें ये स्टेप्स

स्टेप-1: सबसे पहले अपने स्मार्टफोन में सेटिंग्स आइकन पर टैप करें।

स्टेप-2: स्क्रॉल करने के बाद यहां आपको मोर सेटिंग्स आइकन दिखाई देगा, उसपर टैप करें।

स्टेप-3: यहां आपको स्कियोरिटी ऑप्शन दिखाई देगा, अब आप यहां टैप करें।

स्टेप-4: स्कियोरिटी पर टैप करते हुए सबसे ऊपर आपको गूगल प्ले प्रोटेक्ट ऑप्शन दिखाई देगा, उसपर टैप करें।

स्टेप-5: यहां आपको स्कैन डिवाइस फॉर सिक्योरिटी थ्रेट्स और इंप्रूव हार्मफुल एप डिटेक्शन ऑप्शन दिखाई देगा।

स्टेप-6: इसे इनेबल करते ही आपके डिवाइस की स्कियोरिटी बढ़ जाती है और इन वायरस के अटैक का खतरा कम हो जाता है।

आप अपने स्मार्टफोन को पूरी तरह से सिक्योर रखने के लिए अपने स्मार्टफोन में कभी भी थर्ड पार्टी एप इंस्टॉल न करें।

यह भी पढ़ें:

IRCTC ने नये वेबसाइट में जोड़े ये 6 फीचर्स, टिकट बुक करना होगा और आसान

4G स्पीड के मामले में पिछड़ी जियो, एयरटेल बनीं नंबर वन

Youtube पर वीडियो देखते हुए कर सकेंगे चैट, बस इन स्टेप्स को करें फॉलो

Edited By: Harshit Harsh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट