नई दिल्ली (टेक डेस्क)। सोशल मीडिया नेटवर्किंग कंपनी Facebook की एक और डाटा लीक की घटना सामने आई है। इस नई घटना में करीब 50 मिलियन यानी कि 5 करोड़ यूजर्स का अकाउंट हैकर्स ने कंट्रोल कर लिया था। Facebook ने 25 सितंबर को एक ब्लॉग के जरिए इस बात की जानकारी दी।

इस ब्लॉग में Facebook ने कहा, ''पिछले मंगलवार को हमारे इंजीनियर्स ने एक सिक्योरिटी ब्रीच के बारे में पता लगाया है। इस सिक्योरिटी ब्रीच का असर हमारे 5 करोड़ यूजर अकाउंट्स पर पड़ा है। हम इस सिक्योरिटी ब्रीच को गंभीरता से ले रहे हैं और सभी को यह बताना चाह रहे हैं कि यूजर्स के अकाउंट्स को सुरक्षित रखने के लिए जरूरी कदम जल्द उठा लिया है।''

Facebook के 5 करोड़ यूजर्स के अकाउंट्स में ''व्यू एज'' फीचर के जरिए एक्सेस टोकन को हैक कर लिया गया था। इस एक्सेस टोकन वजह से Facebook यूजर्स अपने अकाउंट में हमेशा लॉग्ड-इन रहते हैं। यूजर्स बिना पासवर्ड दर्ज किए ही दोबारा फेसबुक में लॉग-इन कर लेते हैं। हैकर्स ने इसी डिजीटल टोकन पर अटैक किया था। Facebook ने कहा कि इस बग को ठीक कर लिया गया है। इसके अतिरिक्त 40 मिलियन यानी 4 करोड़ अतिरिक्त यूजर्स के एक्सेस टोकन को भी रीसेट कर दिया गया है।

फेसबुक के अलावा भी हमारे पर्सनल कंप्यूटर या स्मार्टफोन्स में भी कई ऐसे डाटा होते हैं जिसके हैक होने का खतरा बना रहता है। आइए, हम आपको तीन आसान उपाय बताने जा रहे हैं जिसकी मदद से आप अपने निजी डाटा से लेकर महत्वपूर्ण डाटा को लीक होने से बचा सकते हैं।

महत्वपूर्ण डाटा की पहचान

दुनियाभर में इंटरनेट के तेजी से हो रहे विस्तार की वजह से हर यूजर्स का निजी डाटा कभी भी लीक हो सकता है। कभी भी इस डाटा में कोई भी हैकर आकर सेंध लगा सकता है। इसलिए, सबसे पहले हमें हमारे सिस्टम में मौजूद महत्वपूर्ण डाटा की पहचान होनी चाहिए, जिसे बचाना हमारे लिए बहुत जरूरी है। इसके लिए आप डाटा संरक्षण सॉफ्टवेयर्स (DLP) का इस्तेमाल करना चाहिए। महत्वपूर्ण डाटा में किसी भी योजना का ब्लू-प्रिंट, वित्तीय लेखा-जोखा या आपकी निजी तस्वीरें आदि हो सकती हैं।

नेटवर्क लॉक करना

ज्यादातर डाटा चोरी की घटनाओं को असुरक्षित नेटवर्क की वजह से अंजाम दिया जाता है। अगर, आपका नेटवर्क असुरक्षित है तो हैकर्स आसानी से आपके नेटवर्क में सेंध लगा सकते हैं। हाल के दिनों में मोबाइल टेक्नोलॉजी काफी उत्कृष्ट हुई हैं, जिसकी वजह से डाटा में सेंध लगाना हैकर्स के लिए आसान हो गया है। अगर, आप अपने नेटवर्क को लॉक कर देते हैं तो किसी भी तरह के डाटा के आदान-प्रदान के लिए परमिशन लेना होगा। जिसकी वजह से डाटा में सेंध लगाना हैकर्स के लिए मुश्किल हो सकता है। अपने वाई-फाई और डाटा नेटवर्क को लॉक करके रखें ताकि डाटा हैक होने की संभावनाओं से बचा जा सकता है।

इनक्रिप्शन का उपयोग करना

डाटा को बचाने का एक उपाय यह भी है कि आप अपने महत्वपूर्ण डाटा को इनक्रिप्ट कर लें। आपको बता दें कि एन्क्रिप्शन अभेद नहीं होता है परन्तु यह डाटा को सुरक्षित रखने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है। आपके नेटवर्क के विभिन्न बिंदुओं पर इनक्रिप्शन का इस्तेमाल करके डाटा के स्थानांतरण और आदान-प्रदान के दौरान होने वाले डाटा लॉस से आपकी जानकारियों को अच्छी तरह सुरक्षित कर देती है।  

यह भी पढ़ें:

Tecno ने बजट रेंज में तीन स्मार्टफोन ड्यूल रियर कैमरा और नॉच फीचर के साथ किया लॉन्च

Jio स्पेक्ट्रम नीलामी के 6 महीने के अंदर ही शुरू कर सकता है 5G सेवा

आधार पर SC के फैसले के बाद रिलायंस Jio और Paytm के eKYC पर पड़ सकता है असर

Posted By: Harshit Harsh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस