नई दिल्ली(श्रीधर मिश्रा)। Whatsapp को भारत में करीब 20 करोड़ से भी ज्यादा यूजर्स इस्तेमाल करते हैं। यह दुनिया का सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप है। इस ऐप के जरिए आप टेक्सट से लेकर मीडिया फाइल्स तक को सेकेंड्स में शेयर कर सकते हैं। लेकिन एक दौर वो भी था जब Whatsapp को ज्यादा लोग नहीं जानते हैं। आज हम आपको Whatsapp के सफर से लेकर यह भी बताएंगे कि यह बिना कोई शुल्क लिए कैसे कमाई करता है।

इस तरह हुई Whatsapp की शुरुआत

साल 2009 में Brian Acton और Jan Koum ने Whatsapp की शुरुअात की थी। ये दोनों पहले Yahoo में काम करते थे। ऐप को बनाने के पीछे का मकसद महंगे SMS सर्विसेज को टक्कर देने का था। ऐप को लोगों ने इस्तेमाल करना शुरू कर दिया। इसकी बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए इसमें कई बड़े सुधार और बदलाव किए गए। उस समय Whatsapp का मुकाबला Viber से था। Whatsapp पर जब टेक्स्ट मैसेजस की सुविधा दी जा रही थी तब Viber ऑडियो कॉलिंग की सुविधा दे रहा था, लेकिन Whatsapp की लोकप्रियता Viber के मुकाबले तेजी से बढ़ती चली गई।

Whatsapp को जब Facebook ने खरीदा

Facebook के फाउंडर Mark Zukerberg ने Whatsapp की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए इसे खरीदने का फैसला किया। इसके बाद साल 2014 के फरवरी महीने में Facebook ने 19 बिलियन डॉलर देकर Whatsapp को खरीद लिया। Mark Zukerberg ने जब इसे खरीदा था जब Whatsapp की बाजार में कुल कीमत 14 बिलियन डॉलर थी। उस समय Whatsapp के 40 करोड़ यूजर्स थे जो आज बढ़ कर 100 करोड़ से भी ज्यादा हो चुके हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक 30 सितंबर 2014 से पहले के 9 महीनों में Whatsapp ने 12 लाख 89 हजार डॉलर कमाए थे।

Whatsapp में जब शुरू हुई छटनी

Facebook ने जब Whatsapp को खरीदा तो शुरुआती दौर में किसी तरह का बदलाव नहीं हुआ। लेकिन इसके बाद कंपनी और पॉलिसीज में कई बदलाव हुए जिनके चलते कमर्चारियों और बड़े मैनेजमेंट पर काम कर रहे अधिकारियों ने कंपनी छोड़ दी। कुछ रिपोर्ट्स में बताया गया कि कंपनी में दबाव की रणनीति अपनाई गए जिसके चलते कर्मचारियों ने कंपनी छोड़ दी।

Whatsapp को जब Brian Acton ने छोड़ दिया

Brian Acton ने Jan Koum के साथ मिलकर Whatsapp को लॉन्च किया था। Brian Acton की Jan Koum से Yahoo में मुलाकात हुई थी। 2014 में Facebook के Whatsapp को टेकओवर करने के बाद Brian Acton ने कुछ दिनों तक कंपनी के लिए काम किया लेकिन फिर बाद में इस्तीफा दे दिया। इस दौरान Jan Koum फेसबुक से जुड़े रहे और कंपनी के बोर्ड में शामिल रहे।

Facebook पर जब Jan Koum ने आरोप लगाते हुए दिया इस्तीफा

Brian Acton के कंपनी छोड़ने के चार साल बाद 30 अप्रैल 2018 को Whatsapp के सह-संस्थापक(को-फाउंडर) और फेसबुक इंक के को-फाउंडर Jan Koum ने भी फेसबुक छोड़ने की घोषणा कर दी। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया कि Jan Koum कंपनी के बिजनेस करने के रवैये से खुश नहीं थे। उन्हें लगने लगा था कि Facebook, ऐप के जरिए डाटा चोरी का काम कर रहा है। रिपोर्ट्स में यह भी बताया गया कि Jan Koum को Facebook और Whatsapp पर दिए जानें वाले विज्ञापनों से भी सख्त नाराजगी थी।

Whatsapp ने शुरुआत में इस तरह की कमाई

Whatsapp शुरुआत में एक साल का फ्री सब्सक्रिप्शन देता था। इसके बाद यूजर्स को इसका इस्तेमाल करने के लिए हर साल करीब 1 डॉलर देने होते थे। लेकिन साल 2016 के जनवरी महीने में Facebook ने Whatsapp पर दिए जाने वाली किसी भी राशि को खत्म कर दिया। यानी अब यूजर Whatsapp को फ्री में इस्तेमाल कर सकते थे।

इस तरह कमाई करना चाहता है Facebook

Whatsapp हमेशा से विज्ञापन के मामले में दूसरे ऐप्स से अलग रहा। इसमें यूजर्स को विज्ञापन नहीं मिलते थे जिसे Facebook ने बाद में भी जारी रखा। हालांकि ऐप अब अपने बिजनेस ऐप और बैकों से इसकी कनेक्टिविटी के माध्यम से पैसे कमाने की सोच रहा है।

इतना है Whatsapp का बिजनेस

फोर्ब्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक Whatsapp का कुल राजस्व 5 बिलियन डॉलर है। रिपोर्ट के मुताबिक साल 2020 तक इसका राजस्व प्रति यूजर औसत 4 डॉलर हो जाएगा।

Whatsapp पर 60 अरब मैसेज भेजे जाते हैं रोज

एक रिपोर्ट के मुताबिक साल 2018 के फरवरी महीने तक Whatsapp के 1.5 बिलियन से भी अधिक यूजर थे। वहीं दूसरी रिपोर्ट के मुताबिक Whatsapp पर हर रोज औसतन 60 अरब मैसेज भेजे जाते हैं।

इसलिए Facebook ने Whatsapp को खरीदा

विशेषज्ञों के मुताबिक Whatsapp को खरीदने के पीछे Facebook का मकसद इसके यूजर्स के डाटा और पर्सनल जानकारी को नोटिस करके अपने बिजनेस को बढ़ाना था।

यह भी पढ़ें:

स्मार्टफोन का पासवर्ड भूलने पर इस तरह करें अपने फोन को अनलॉक

2 मिनट से भी कम समय में पता लगाएं कौन सी App कर रही है आपके स्मार्टफोन को Slow

भूलकर भी न करें इन 20 पासवर्ड का इस्तेमाल, हैक हो सकता है आपका सोशल मीडिया और बैंकिंग अकाउंट 

Posted By: Shridhar Mishra