Don’t s of Sawan 2021: हिंदू धर्म में सावन के महीने का विशेष महत्व होता है। इस माह में विशेष रूप से भगवान शिव और माता पार्वती का पूजन किया जाता है। सावन माह के प्रत्येक दिन किसी न किसी व्रत, त्योहार या पूजन का विधान है। इस महीने में कुवांरी लड़कियां जहां सोलह सोमवार या सावन के सोमवार के व्रत रखती है। तो वहीं सुहागिन स्त्रियां मंगला गौरी, हरियाली तीज और शिवारात्रि के व्रत सुखी वैवाहिक जीवन की कामना के लिए रखती हैं। इसलिए इस महीने में विशेष संयम और सात्विक भाव से रहना चाहिए। आज हम आपको ऐसे निषिद्ध कार्यों के बारे में बताएगें जिन्हें खासतौर पर महिलाओं को सावन के महीने में नहीं करने चाहिए। ऐसा करने से इस माह में किए जाने व्रत और पूजा- पाठ निष्फल हो जाते हैं।

1-सावन के महीने में सात्विक जीवन जीना चाहिए। इस माह में मांस, मछली का सेवन नहीं करना चाहिए।

2- सावन के महीने में सुबह देर तक नहीं सोना चाहिए। सुबह सूर्योदय के काल में उठ कर स्नान कर सावन के महीने प्रति दिन भगवान शिव को जल चढ़ाने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

3- सावन माह में काले कपड़े नहीं पहनने चाहिए, ऐसा करने से मन में नकारात्मक विचार आने लगते हैं।

4- सावन में हरे कपड़े और हरी चूड़ियां पहनना शुभ माना जाता है, विशेषकर हरियाली तीज के दिन।

5- मासिक धर्म के समय शिव लिंग का पूजन और स्पर्श नहीं करना चाहिए, शास्त्रों इसे माना किया गया है। इस दौरान अपनी साफ सफाई और स्वास्थ्य का ध्यान रखना चहिए।

6- भगवान शिव को केतकी का फूल नहीं चढ़ाया जाता है।

7- भगवान शिव को हल्दी नहीं चढ़ाई जाती है। शिव जी को रोली, कुमकुम या सफेद चंदन का टीका लगाना चाहिए।

8- सावन के महीने में व्रत और पूजन के दिन विशेष रूप से मूली और बैंगन नहीं खाना चाहिए। सावन मास में साग और पत्तेदार सब्जियों से भी बचना चाहिए, इनमें इस काल में कीड़ो का विकास हो जाता है।

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

 

Edited By: Jeetesh Kumar