Move to Jagran APP

Shani Margi 2024: न्याय के देवता शनिदेव कब होंगे मार्गी? नोट करें सही डेट और साढ़े साती की स्थिति

ज्योतिषियों की मानें तो साढ़े साती (Shani Margi 2024) के दौरान जातक को जीवन में नाना प्रकार की परेशानियों से गुजरना पड़ता है। इससे मानसिक आर्थिक और शारीरिक सेहत पर बुरा असर पड़ता है। इसके लिए ज्योतिष व्यक्ति को सही कर्म करने की सलाह देते हैं। सही कर्म करने वाले जातकों को शनिदेव अल्प समय में ही धनवान बना देते हैं।

By Pravin KumarEdited By: Pravin KumarTue, 09 Jul 2024 04:57 PM (IST)
Shani Margi 2024: शनिदेव कब करेंगे राशि परिवर्तन?

धर्म डेस्क, नई दिल्ली। Shani Margi 2024 Date: ज्योतिष शास्त्र में शनिदेव को न्याय का देवता और कर्मफल दाता कहा जाता है। शनिदेव के शरणागत रहने वाले जातकों को मोक्ष की प्राप्ति होती है। यह वरदान शनिदेव को देवों के देव महादेव से प्राप्त हुआ है। ज्योतिषियों की मानें तो अच्छे कर्म करने वाले जातकों को शनिदेव शुभ फल देते हैं। वहीं, बुरे कर्मों में लिप्त लोगों को दंडित करते हैं। वर्तमान समय में शनिदेव कुंभ राशि में विराजमान हैं। इस राशि में शनिदेव 29 मार्च, 2025 तक रहेगें। इससे पूर्व शनिदेव ने अपनी चाल बदली है। शनिदेव 29 जून को मार्गी से वक्री हुए हैं। इससे राशि चक्र की सभी राशियों पर भाव अनुसार प्रभाव पड़ेगा।

यह भी पढ़ें: जीवन की मुश्किलें बढ़ा सकता है राहु, इन अचूक उपायों से मिलेगी राहत

शनिदेव कब होंगे मार्गी?

ज्योतिषियों की मानें तो शनिदेव चातुर्मास के दौरान वक्री चाल चलेंगे। वहीं, देवउठनी एकादशी के बाद यानी चातुर्मास समाप्त होने के बाद शनिदेव मार्गी होंगे। आसान शब्दों में कहें तो 12 नवंबर को देवउठनी एकादशी है। वहीं, 13 नवंबर को तुलसी विवाह है। इसके दो दिन बाद 15 नवंबर को शनिदेव मार्गी होंगे। 15 नवंबर को शाम 08 बजकर 07 मिनट पर शनिदेव मार्गी होंगे।

साढ़े साती की स्थिति

वर्तमान समय में मीन राशि के जातकों पर साढ़ेसाती का प्रथम चरण चल रहा है। वहीं, कुंभ राशि के जातकों पर दूसरा चरण चल रहा है। जबकि, मकर राशि के जातकों पर साढ़ेसाती का अंतिम चरण चल रहा है। शनिदेव आगामी वर्ष में 29 मार्च को राशि परिवर्तन करेंगे। शनिदेव 29 मार्च को कुंभ राशि से निकलकर मीन राशि में गोचर करेंगे। शनिदेव के राशि परिवर्तन से मकर राशि के जातकों को साढ़े साती से मुक्ति मिल जाएगी। वहीं, मेष राशि के जातकों पर साढ़े साती का प्रथम चरण शुरू होगा।

यह भी पढ़ें: कुंडली में कैसे बनता है शेषनाग कालसर्प दोष? इन उपायों से करें दूर

डिस्क्लेमर-''इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना में निहित सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्म ग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारी आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना के तहत ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'