Move to Jagran APP

Guru Gochar: इस दिन रोहिणी नक्षत्र में गोचर करेंगे देवगुरु बृहस्पति, इन 3 राशि के जातकों पर होगी धन की बारिश

ज्योतिष करियर और कारोबार में मन मुताबिक सफलता पाने के लिए कुंडली में गुरु (Guru Gochar 2024) मजबूत करने की सलाह देते हैं। कुंडली में गुरु मजबूत होने पर जातक को सभी प्रकार के सुखों की प्राप्ति होती है। इसके अलावा सभी प्रकार के बिगड़े काम भी बन जाते हैं। इसके लिए विवाहित महिलाएं और अविवाहित लड़कियां गुरुवार का व्रत करती हैं।

By Pravin KumarEdited By: Pravin KumarWed, 10 Jul 2024 01:56 PM (IST)
Guru Gochar: कुंडली में गुरु कैसे मजबूत करें?

धर्म डेस्क, नई दिल्ली। Guru Nakshtra Parivartan: ज्योतिष शास्त्र में देवगुरु बृहस्पति को धन और ज्ञान का कारक माना जाता है। कुंडली में गुरु मजबूत होने से अविवाहित लड़कियों की शीघ्र शादी के योग बनते हैं। साथ ही नवविवाहित दंपति को पुत्र रत्न की प्राप्ति होती है। इसके अलावा, करियर और कारोबार में भी जातक प्रगति और उन्नति की राह पर अग्रसर रहता है। ज्योतिषियों की मानें तो गुरु की महादशा, गुरु गोचर और शुभ ग्रहों की महादशा में गुरु की अंतर्दशा के दौरान जातक को सभी प्रकार के सुखों की प्राप्ति होती है। वर्तमान समय में देवगुरु बृहस्पति वृषभ राशि में विराजमान हैं और जल्द ही नक्षत्र चरण परिवर्तन करेंगे। इससे 3 राशि के जातकों को विशेष धन लाभ होगा। आइए जानते हैं-  

यह भी पढ़ें: मंगल देव ने कृत्तिका नक्षत्र में किया गोचर, इन 3 राशियों को होगा विशेष लाभ

गुरु नक्षत्र गोचर

ज्योतिषियों की मानें तो वर्तमान समय में देवगुरु बृहस्पति वृषभ राशि में उपस्थित हैं। इस राशि में देवगुरु बृहस्पति 14 मई, 2025 तक रहेंगे। वहीं, 13 जुलाई को शाम 08 बजकर 16 मिनट पर गुरु रोहिणी नक्षत्र के तीसरे चरण में प्रवेश करेंगे। वर्तमान समय में देवगुरु बृहस्पति रोहिणी नक्षत्र के दूसरे चरण में विराजमान हैं। इस चरण में 30 जुलाई तक रहेंगे। इसके अगले दिन यानी 31 जुलाई को देवगुरु बृहस्पति रोहिणी नक्षत्र के चौथे चरण में प्रवेश करेंगे।

मेष राशि

मेष राशि के जातकों के लिए वर्ष 2024 उत्तम रहने वाला है। गुरु के गोचर और गुरु के राशि परिवर्तन तक मेष राशि के जातक सबसे अधिक लाभान्वित हुए हैं। इस राशि के धन भाव में देवगुरु विराजमान हैं। इसके लिए मेष राशि के जातकों को धन लाभ हो सकता है। साथ ही निवेश करने की सोच रहे हैं, तो समय अनुकूल है। हालांकि, धन का व्यय सोच समझकर करें। आगामी वर्ष से आपके लिए समय कठिन हो सकता है।  

वृषभ राशि

वर्तमान समय में गुरु वृषभ राशि में विराजमान हैं। वहीं, गुरु के रोहिणी नक्षत्र में गोचर करने से वृषभ राशि के जातकों को विशेष लाभ प्राप्त होगा। इस नक्षत्र की राशि वृषभ है। अतः वृषभ राशि के जातकों को भाग्य का साथ मिलता है। देवगुरु बृहस्पति के रोहिणी नक्षत्र में गोचर के दौरान वृषभ राशि के जातक के जीवन में खुशियों का आगमन होगा। धन प्राप्ति के योग बन रहे हैं। रुका हुआ धन प्राप्त हो सकता है। सभी बिगड़े काम बन जाएंगे। साथ ही निवेश से भी लाभ होगा। धार्मिक यात्रा के योग बनेंगे। परिवार में मांगलिक कार्यक्रम होंगे। साथ ही अविवाहित सदस्य का रिश्ता तय हो सकता है।

कर्क राशि

कर्क राशि में गुरु उच्च के होते हैं। इस राशि पर बृहस्पति देव की विशेष कृपा बरसती है। वर्तमान समय में गुरु कर्क राशि के आय भाव में विराजमान हैं। इस भाव में गुरु की उपस्थिति से कर्क राशि के जातकों की आमदनी बढ़ेगी। साथ ही कारोबार में तेजी देखने को मिल सकती है। शेयर मार्केट में मुनाफा हो सकता है। साथ ही रुका हुआ काम पूर्ण होगा।

यह भी पढ़ें: 29 मार्च को न्याय के देवता करेंगे राशि परिवर्तन, इन 3 राशियों को शनि बाधा से मिलेगी मुक्ति

अस्वीकरण: इस लेख में बताए गए उपाय/लाभ/सलाह और कथन केवल सामान्य सूचना के लिए हैं। दैनिक जागरण तथा जागरण न्यू मीडिया यहां इस लेख फीचर में लिखी गई बातों का समर्थन नहीं करता है। इस लेख में निहित जानकारी विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों/दंतकथाओं से संग्रहित की गई हैं। पाठकों से अनुरोध है कि लेख को अंतिम सत्य अथवा दावा न मानें एवं अपने विवेक का उपयोग करें। दैनिक जागरण तथा जागरण न्यू मीडिया अंधविश्वास के खिलाफ है।