अजमेर संवाद सूत्र। बेरोजगारी और आर्थिक तंगी से परेशान होकर एक व्यक्ति ने अपनी मासूम बेटियों की हत्या कर दी व पत्नी पर बेरहमी से हमला कर घायल कर दिया और खुद भी जान देने की कोशिश की। अजीत चीता ने आठ साल पहले लव मैरिज की थी। घायल पत्नी को गंभीर हालत में उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां वह जिंदगी की जंग लड़ रही है। अजमेर जिले के ब्यावर उपखंड के हाइवे स्थित खरवा गांव में पिता अजीत चीता ही अपने मासूम बच्चों व पत्नी पर हाथ में चाकू लेकर टूट पड़ा। अब अजीत व उसकी पत्नी ब्यावर के राजकीय अमृतकौर चिकित्सालय में भर्ती गंभीर अवस्था में भर्ती है। पत्नी कुछ दिन से बीमार थी। इस कारण उसे ही घर के सारे काम करना पड़ते थे। बेरोजगारी से पहले ही वह तनाव में था और से घर की इतनी जिम्मेदारियों से वह परेशान हो गया था।

ब्यावर सदर थाना प्रभारी सुरेन्द्र सिंह जोधा ने बताया कि भवानीपुरा रोड कॉलोनी निवासी अजीत चीता ने बुधवार दोपहर करीब 12 बजे पत्नी 27 वर्षीय कविता के गले व हाथ में चाकू के वार किए। जब वह चिल्लाई तो सात साल की मासूम बेटी अन्नू व पांच साल की एंजल भी पास आ गई। गुस्साए अजीत ने उन दोनों पर भी चाकू के वार कर दिए। इसके बाद खुद के गले व हाथ पर भी चाकू के वार कर दिए। शोर-शराबे की आवाज सुन लोग मौके पर पहुंचे तो पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने देखा तो मौके पर खून फैला हुआ था। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

जख्मी अजीत चीता ने पुलिस को बताया कि वह बेरोजगार था और आर्थिक संकट से जूझ रहा था। ऐसे में उसकी पत्नी कविता की तबीयत खराब रहती थी। उसका कुछ दिन पहले ही बच्चे दानी का ऑपरेशन हुआ था। घर का सारा काम भी उसे ही करना पड़ रहा था। वो बहुत परेशान हो गया और काफी दिनों से तनाव में चल रहा था। वह चाहता था कि सभी को मार कर खुद भी आत्महत्या कर ले, इसलिए वारदात को अंजाम दे दिया।

इधर, खरवा बुधवार को सुर्खियों में रहा। सुबह डबल मर्डर की घटना से पुलिस अभी पूरी तरह उभर नहीं पाई थी कि एचएच आठ पर ही भारत पेट्रोल पंप के पास एक खाई में एक महिला का जला हुआ शव मिला। सदर पुलिस सी आई सुरेन्द्र सिंह जोधा और एफएसएल टीम ने मौके पर पहुंच कर शव को बरामद किया। पुलिस शव की शिनाख्त का प्रयास कर रही है।