जेएनएन, रूपनगर। रेलवे में नौकरी के सपने संजोये लोगों को जब हाथ में अप्वाइंटमेंट लैटर दिया जाता तो उन्हें लगता था कि उन्होंने जग जीत लिया, लेकिन उन्हें क्या पता था कि जो अप्वाइंटमेंट लैटर उनके हाथ में है वह फर्जी है। जी हां, रूपनगर पुलिस ने एेसे ही एक गिरोह का पर्दाफाश किया है। यह गिरोह रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों रुपये एेंठता था। गिरोह की सरगना रूपनगर एडीसी दफ्तर में क्लर्क पुष्पा देवी थी।

रूपनगर स्थित आफिसर कालोनी की रहने वाली पुष्पा देवी पत्नी कुलदीप चौहान व गुरदासपुर के लक्खोवाल निवासी अश्वनी कुमार को पुलिस ने गिरफ्तार कर उनके खिलाफ 420 का केस दर्ज किया है, जबकि दो अन्य अारोपी प्रभजोत सिंह उर्फ संजय यादव पुत्र सुरजीत सिंह निवासी मकान नंबर 1100. पातशाही नौवी बाबा बकाला जिला अमृतसर तथा पलविंदर सिंह पुत्र सवरण सिंह निवासी गांव चाहल कलां जिला गुरदासपुर अभी पुलिस गिरफ्त से दूर हैं। इनके खिलाफ आनंदपुर साहिब के गांव अटारी के जतिंदरपाल सिंह पुत्र हरी कृष्ण की शिकायत पर पड़ताल के बाद केस दर्ज हुअा है।

यह भी पढ़ें: एेसा क्या हुआ कि दुल्हन ने शादी के एक दिन बाद ही मांगा तलाक

उक्त आरोपी लोगों को रेलवे में कैटेगिरी सी तथा डी में नौकरी दिलाने का झांसा देकर वाराणसी ले जाते थे तथा वहां होटलों में ठहराते थे। इस दौरान वो अावेदनकर्ताअों को कोचिंग सेंटरों में हाजिरी लगवाकर ये कह देते थी कि यह रेलवे का ट्रेनिंग सेंटर है। अावेदनकर्ताअों के मेडिकल भी करवाए जाते थे। जाली अप्वाइंटमेंट लेटर तक दिए जाते थे। आरोपी कैटेगिरी सी के लिए अाठ लाख रुपये अौर डी में पांच लाख रुपये लेते थे।

यह भी पढ़ें: छात्रा से दोस्ती के बाद खींच ली अश्लील तस्वीरें, फिर करने लगा ब्लैकमेल

 

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!