मोगा, [सत्येन ओझा/राजकुमार राजू]। पांच और नौ साल की TikTok girls की टैलेंट से उसके ईंट-भट्ठा मजदूर माता-पिता की जिंदगी में नया सवेरा आया है। उनकाे गरीबी से मुक्ति की आस जगी है और जिंदगी बदल गई है। इन दो नन्ही बच्चियों के वीडियो खूब वायरल हो रहे हैं और माता-पिता के खाली दामन खुशियों के संग दौलत व शोहरत से भर रही है। कोरोना लॉकडाउन में कुछ लोग सब कुछ खत्म होने का रोना रो रहे हैं, वहीं 12वीं तक पढ़े एक युवक ने दो नन्ही बच्चियों के साथ टिकटॉक वीडियो बनाकर प्रसिद्धि हासिल कर ली। इनके वीडियो पिछले एक हफ्ते से टिकटॉक पर छाए हुए हैं।

टिकटॉक पर बच्चियों नूरप्रीत व जशनदीप के वीडियो हो रहे वायरल

भिंडरकलां गांव के सरकारी स्कूल में पढऩे वाली नौ साल की जशनप्रीत कौर व पांच साल की नूरप्रीत कौर की हाजिर जवाबी का टिकटॉक पर वीडियो देखने वाले लोहा मान रहे हैं। गांव के संदीप तूर ने इनके वीडियो बनाए हैं। संदीप को जब 12वीं पास करने के बाद कोई नौकरी नहीं मिली तो गांव में किराना दुकान खोल ली। दुकान ज्यादा नहीं चली तो टिकटॉक पर वीडियो बनाने लगा।

इस दौरान कोरोना कर्फ्यू लग गया। दुकान बंद थी तो उसने पांच साल की नूरप्रीत व नौ साल की जशनप्रीत कौर के टिकटॉक वीडियो बनाए। वीडियो में नूरप्रीत सरदार का रोल करती है। इनके वीडियो को खूब पसंद किया जा रहा है। कई वीडियो को अब तक एक लाख से अधिक लोग देख चुके हैं और शेयर भी कर रहे हैं।

धर्मकोट नगर कौंसिल प्रधान दोनों बच्चियों की पढ़ाई का खर्च उठाएंगे

बच्चियों की प्रतिभा को देखकर धर्मकोट नगर कौंसिल के प्रधान इंद्रप्रीत सिंह बंटी ने उनकी पढ़ाई का खर्च उठाने की घोषणा कर दी। नन्ही बच्चियों की कला एसएसपी हरमनबीर सिंह गिल को भी पसंद आई और उन्होंने डीएसपी सुखविंदर सिंह, डीएसपी रमनदीप सिंह व डीएसपी मोहित कुमार को बेटियों को सम्मानित करने गांव भेजा। डीएसपी ने दोनों बेटियों व उनके माता जगवीर कौर व पिता सतनाम सिंह को सम्मानित किया और 51 हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि भी दी। पुलिस अधिकारियों ने बच्चियों के साथ सेल्फी भी ली। डीएसपी सुखविंदर सिंह ने संदीप की भी प्रशंसा की।

दोनों बच्चियों के साथ सेल्‍फी लेते पुलिसकर्मी।

माता-पिता की आंखों से छलके आंसू

पुलिस अधिकारी घर पर बेटियों का सम्मान करने पहुंचे तो ईंट भट्ठे पर काम करने वाले पिता सतनाम सिंह व मां जगवीर कौर की आंखें खुशी से छलक आईं। उन्होंने वाहेगुरु का धन्यवाद किया कि बेटियों ने आज उन्हें वो सम्मान दिलाया है, जिसकी कभी कल्पना भी नहीं की थी।

बच्‍ची के माता-पिता।

ऐसे हैं वीडियो

एक वीडियो में दिखाया गया है कि पिता बेटे को समझाकर बीमार रिश्तेदार के यहां ये कहकर ले जाता है कि वहां कुछ गलत मत बोल देना। रिश्तेदार के परिजन बताते हैं कि पहले खांसी थी वो धीरे-धीरे ठीक हो गई है, बस सांस उखड़ती है तो इस पर मुख्य नायिका नूरप्रीत बोलती है कि खांसी धीरे-धीरे चली गई, वैसे ही सांस भी धीरे-धीरे चली जाएगी।

एक अन्य वीडियो में स्कूल से लौटे बच्चे से पिता पूछता है, क्या रहा उसके रिजल्ट का। बच्चा बनी नूरप्रीत बोलती है कि सरपंच का मुंडा फेल हो गया। पिता कहता है कि सरपंच के मुंडे के नहीं तेरा रिजल्ट पूछा है। नूरप्रीत कहती है, सामने डॉक्टर का मुंडा भी फेल गया। पिता झल्ला पड़ता है उसका रिजल्ट पूछा है, इस पर वह कहता है कि तू क्या डीसी लगा है तेरा भी फेल हो गया।

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!