जागरण संवाददाता, कपूरथला। पंजाब पुलिस ने बड़ी आतंकी साजिश को बेनकाब किया है। पुलिस ने प्रतिबंधित संगठन इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन (आईएसवाईएफ) के माड्यूल का भंडाफोड़ करके उसके दो सदस्यों को गिरफ्तार किया है। इनमें जरनैल सिंह भिंडरांवाला के भतीजे श्री अकाल तख्त के पूर्व जत्थेदार जसबीर सिंह रोडे का बेटा गुरमुख सिंह भी शामिल है। इसके अलावा गगनदीप सिंह गुरुनानकपुरा (फगवाड़ा) को भी गिरफ्तार किया गया है। उसके पास से एक अवैध पिस्टल मिली है।

ये हथियार और गोला-बारूद बरामद

पुलिस ने उनके पास से एक टिफिन बम, 5 हथगोले, 1-1 बॉक्स डेटोनेटर, 2 ट्यूब में आरडीएक्स, एक .30 बोर पिस्तौल, 2 मैगजीन, 4 ग्लॉक पिस्टल मैगजीन, 1 उच्च विस्फोटक पीले तार, 3.75 लाख भारतीय मुद्रा, 14 पासपोर्ट, दो एसयूवी- फोर्ड एंडेवर और मोहिंद्रा एक्सयूवी बरामद किए हैं। गुरमुख सिंह हरदयाल नगर, गढ़ा, जालंधर में रहता था। 

पाकिस्तान ने ड्रोन से भेजे हथियार

पूछताछ के दौरान, सुखविंदर ने खुलासा किया कि उसके पास से बरामद पिस्तौल हथियारों की एक बड़ी खेप का हिस्सा थी जिसे पिछले कुछ महीनों में ड्रोन द्वारा सीमा पार भेजा गया था। उन्होंने यह भी खुलासा किया कि खेप का एक बड़ा हिस्सा गुरमुख सिंह ने छिपाया था।

जालंधर बस स्टैंड के पास छिपाए थे विस्फोटक

पुलिस टीमों ने जालंधर में गुरमुख सिंह के घर पर छापा मारा और उसे गिरफ्तार कर लिया। वहां से 2 हथगोले, 1 डिटोनेटर बॉक्स, 2 एक्स-ट्यूब, एक उच्च विस्फोटक पीला तार (पाकिस्तानी), लगभग भारतीय मुद्रा बरामद की। 3.75 लाख रुपये, एक लाइसेंसी हथियार .45 बोर, 14 भारतीय पासपोर्ट, एक .30 पिस्तौल, 2 मैगजीन सहित, 5 गोलियां बरामद की। जालंधर बस स्टैंड के पास उनके कार्यालय में एक जिंदा टिफिन बम और अन्य विस्फोटक छिपाए गए थे।  पुलिस टीमों ने तुरंत गुरमुख सिंह के कार्यालय पर छापा मारा और तीन जिंदा हथगोले, एक टिफिन बम, चार पिस्तौल मैगजीन और पैकेजिंग सामग्री बरामद की।

प्रारंभिक जांच में पता चला है कि यह खेप आईएसआईएफ और आईएसवाईएफ सहित पाकिस्तान स्थित खालिस्तान समर्थक आतंकवादी समूहों ने पंजाब में आतंकवाद को पुनर्जीवित करने के निरंतर प्रयासों के तहत भेजी थी। आतंकी पंजाब में कई आतंकवादी हमलों को अंजाम देने और शांति भंग करने की फिराक में थे। इससे पहले, अमृतसर (ग्रामीण) पुलिस ने भी गांव दलके, थाना लोपोके से एक समान दिखने वाला आधुनिक टिफिन बम बरामद किया। इस टिफिन बम में आरडीएक्स लगाया गया था और इसमें कार्यात्मक लचीलेपन के लिए स्विच, चुंबकीय और स्प्रिंग सहित 3 अलग-अलग ट्रिगर तंत्र थे।

जरनैल सिंह भिंडरावाले का भतीजा है जसबीर सिंह रोडे

मोगा स्थित रोडे गांव जरनैल सिंह भिंडरावाले का पैतृक गांव है। पूर्व जत्थेदार जसबीर सिंह रोडे का भाई लखबीर सिंह रोडे इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन (आइसवाईएफ) का प्रमुख है। लखबीर ने पाकिस्तान में शरण ली हुई है। वहीं से वह भारत में आतंकी गतिविधियां संचालित करता है। उसके संगठन के सदस्य यूरोप और कनाडा समेत कई देशों में बैठे हैं। पंजाब में आतंकवाद जब चरम पर था तब जसबीर सिंह रोडे श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार थे। वह पहले श्री गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी पर पंथक एजेंडा को दरकिनार करने का आरोप लगा चुके हैं। 

यह भी पढ़ें - पैरा ओलंपिक गेम्स में भारत की उम्मीदों का भार जालंधर की पलक कोहली पर, प्रधानमंत्री मोदी भी कर चुकें हैं तारीफ

 

Edited By: Pankaj Dwivedi