जागरण संवाददाता, लुधियाना। Inspire Award Standard Scheme: अब विद्यार्थी साइंस से संबंधित आविष्कारक आइडियाज को अपने अंदाज में तैयार कर भेज सकेंगे। साइंस एंड टेक्नोलाजी विभाग भारत सरकार ने नेशनल इनोवेशन फाउंडेशन इंडिया के साथ मिलकर द इंस्पायर अवार्ड-मानक स्कीम 2022-2023 को तैयार किया है।

कक्षा छठी से दसवीं तक के विद्यार्थियों को साइंस के प्रति प्रेरित करने के उद्देश्य से इस स्कीम को शुरू किया गया है। विद्यार्थी साइंस से संबंधित जो भी क्रिएटिव और इनोवेटिव सोचते हैं, उसे आविष्कारक रूप देने के उद्देश्य से वन मिलियन आइडियाज को स्कीम के तहत तैयार करने की योजना है। विद्यार्थियों को 30 सितंबर, 2022 तक अपने नोमिनेशन भेजने होंगे। सेंट्रल बोर्ड आफ सेकेंडरी एजुकेशन(सीबीएसई) ने इसी के तहत स्कूलों को विद्यार्थियों को अधिक से अधिक प्रेरित व भाग लेने की बात कही है।

छात्रों को स्कूलों को भेजने होंगे आइडियाज

दस से पंद्रह साल आयु वर्ग के बच्चों जो कक्षा छठी से दसवीं तक पढ़ रहे हैं को अपने आइडियाज अपने स्कूलों को सब्मिट कराने होंगे। आइडियाज को शाटलिस्ट किया जाएगा। उसके बाद टाप 5 आइडियाज ई-एमआईएएस वेब पोर्टल http://www.inspireawards-dst.gov.in/ किसी भी भाषाओं में शाटलिस्ट किया जाएगा।

बेस्ट एक लाख आइडियाज को मिलेंगे दस हजार रुपये

देशभर से एक लाख बेस्ट आइडियाज को चयनित किया जाएगा और उन्हें 10 हजार रुपये प्रति विद्यार्थी पुरस्कृत किया जाएगा। साथ ही जिला स्तर पर होने वाली प्रतियोगिता में भी विद्यार्थियों को चयनित किया जाएगा। 10 प्रतिशत विद्यार्थी राज्य स्तरीय प्रतियोगिता के लिए भी शाटलिस्ट होंगे। एक हजार तक विद्यार्थी विभिन्न टेक्नोलाजिकल इंस्टीट्यूशंस और राष्ट्रीय स्तर पर अपने आविष्कार को शोकेस कर सकेंगे।

बच्चों के लिए जरूर फायदेमंद होगी यह स्कीम 

शिक्षाविदों की मानें तो काफी स्कूली बच्चों की साइंस विषय के प्रति रूचि होती है और वह आविष्कारक सोच भी रखते हैं। स्कीम छात्रों के लिए जरूर फायदेमंद होगी और वह बच्चों को भाग लेने के लिए प्रेरित भी करेंगे।

यह भी पढ़ेंः- पंजाब में आप विधायक की पत्नी ने डीसी से किया दुर्व्यवहार, कुर्सी न मिलने पर हुआ विवाद; आइएएस अधिकारी एसोसिएशन के पास पहुंचा मामला

Edited By: Deepika