डीएल डॉन, लुधियाना। महानगर में बिजली संकट गहरा गया है। लगभग सभी इलाकों में बिजली की अघोषित कटौती होने से लोग परेशान हैं। 8-10 घंटे तक के कट लग रहे हैं। सुबह बिजली न आने से लोग पीने के पानी के लिए भी तरस गए हैं। मंगलवार सुबह ही बिजली बिजली गुल होने से कई इलाके के लोगों को पानी तक नसीब नहीं हुआ। इससे लोगों में भारी रोष है। बहादुर के रोड स्थित डेरा बाजीघर के प्रवेश कुमार अमरिंदर लखबीर ने कहा कि सोमवार देर रात से ही बिजली नहीं है। डेरा बाजीघर में पानी की सप्लाई ठप हो गई है जिससे लोग मुश्किल में हैं।

शिमलापुरी, गुरु गोबिंद सिंह नगर, नानक नगर, मटके चक्की आदि में सोमवार देर रात से ही बिजली गुल होने से सुबह 8:00 बजे तक लोग परेशान रहे। रामानंद पोद्दार, हीरालाल, सोनू कुमार, अश्विनी कुमार आदि ने बताया कि रात से बिजली गुल होने से लोग गर्मी में भी परेशान थे। सुबह पानी को लेकर मुश्किल आई। उनका आरोप है कि पावरकाम के 1912 और लोकल बिजलीघर कार्यालय के फोन नंबर पर सुनवाई नहीं हो रही है। 1912 पर फोन करने पर केवल कंप्यूटर से उत्तर मिलता है और उसके बाद फोन कट जाा है। इससे लोगों की शिकायत भी अपलोड नहीं हो रही है। दूसरी ओर, लोकल बिजली कार्यालय में फोन करने पर मुलाजिमों कहते हैं कि 1912 पर फोन करें, वहां से मैसेज आने पर ही बिजली की सप्लाई ठीक होगी। इसी तरह, पावरकाम के शिकायत कक्ष में सुनवाई नहीं होने से लोगों में भारी रोष है।

पावरकाम का दावा, बिजली की किल्लत नहीं

पावरकाम के चीफ इंजीनियर भूपेंद्र खोसला से बात करने पर उन्होंने कहा कि लुधियाना में बिजली की किल्लत नहीं है। फीडर अपडेट करने के लिए कट लगाए जाते हैं। जब उनसे पूछा गया है कि कई इलाकों में अघोषित रूप से बिजली गुल है, लोग पानी को तरस रहे हैं। इस पर उन्होंने कहा कि फाल्ट के कारण बिजली गुल हुई होगी, मुलाजिम ठीक करने में जुटे हैं। 

यह भी पढ़ें - Punjab Power Crisis: पंजाब में अगले 3 दिन तक बिजली संकट रहेगा बरकरार, 2 से 6 घंटे तक लग रहे कट

Edited By: Pankaj Dwivedi