जासं,बठिंडा। गुरु गोबिंद सिंह रामा रिफाइनरी के ठेकेदार व व्यापारी अंकिल गोयल निवासी रामां मंडी को वाट्सएप काल कर एक करोड़ रुपये की फिरौती मांगने के मामले में बठिंडा पुलिस ने विदेश में बैठे गैंगस्टर गोल्ड़ी बराड़ समेत आठ लोगों को नामजद किया है।

इसमें सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में शामिल गैंगस्टर मनप्रीत सिंह उर्फ मन्ना, तरनजोत सिंह उर्फ तन्ना, सतविंदर सिंह उर्फ गोल्ड़ बराड़, अंग्रेज सिंह उर्फ लाडी, हरमन सिंह, जसविंदर सिंह उर्फ घोड़ा, रविंदर सिंह उर्फ अब्बी, नवदीप सिंह निवासी गुरदासपुर का नाम शामिल है। पुलिस ने इस मामले में गैंगस्टर मनप्रीत सिंह उर्फ मन्ना, जसविंदर सिंह उर्फ घोड़ा, अंग्रेज सिंह को गिरफ्तार कर लिया है। गोल्ड़ी बराड़ को छोड़कर बाकी आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने प्रयास शुरू कर दिए है, जबकि एक आरोपित तरनजाेत सिंह निवासी लखनपाल जिला गुरदासपुर पहले से जेल में बंद है। जिसे पुलिस प्रोडेक्शन वारंट पर लाकर पूछताछ करने की तैयारी कर रही है।

शनिवार को प्रेसवार्ता कर एसएसपी बठिंडा जे इलनचेजियन ने बताया कि रामां मंडी के व्यापारी अंकित गोयल को अज्ञात नंबरों से वाट्सएप काल कर कुछ लोगों ने एक करोड़ रुपये की फिरौती मांगी थी। फिराैती मांगने वालों ने खुद को लारेंस ग्रुप का मेंबर गोल्डी बराड़ बता रहे थे। मामले को ट्रेस करने के लिए तलवंडी साबो पुलिस, सीआईए-2 की टीम का गठन किया गया था। पुलिस ने इस केस को ट्रेस करते हुए फिरोजपुर जेल में बंद गैंगस्टर मनप्रीत सिंह उर्फ मन्ना को पुलिस प्राेडक्शन वारंट पर लेकर आई थी, जिससे पूछताछ के बाद खुलासा हुआ कि मन्ना ने गैंगस्टर गोल्डी बराड़ से संपर्क कर व्यापारी से फिरौती मांगने के लिए वाट्सएप काल करवाने के साथ व्यापारी के घर के बाहर फायरिंग करवाई थी।

फायरिंग करवाने के लिए उसने शूटर जसविंदर सिंह उर्फ घोड़ा निवासी गांव जजल थाना रामा जिला बठिंडा, रविंदर सिंह उर्फ अब्बी, नवदीप सिंह उर्फ नवी निवासी गुरदासपुर को हायर किया गया है। ये तीनों शूटर हैं, जिनको आरोपित अंग्रेज सिंह उर्फ लाडी निवासी गांव पक्का कलां ने असला मुहैया करवाया था, जबकि आरोपित हरमन सिंह व अंग्रेज के साथ हथियार लेने गया था। एसएसपी ने बताया कि आरोपित तरनजोत सिंह मौजूदा समय में गुरदासपुर जेल में बंद है, तो उसे पुलिस प्रोडक्शन वारंट पर लाकर पूछताछ की जाएगी, जबकि पकड़े गए आरोपितों का तीन दिन का पुलिस रिमांड मिल गया है। रिमांड के दौरान और भी खुलासे होने की उम्मीद है।

बता दें कि रामां मंडी के वार्ड नंबर 15 में रेलवे पुलिस चौकी के सामने रहने वाले अंकित गोयल ने बताया था कि उनकी एसपीडी फॉरगिंग और अंकित एंड गोयल सन्स के नाम पर अलग-अलग फर्मे हैं। 13 सितंबर की रात करीब दो बजे मोबाइल नंबर पर एक विदेशी नंबर से वाट्सएप काल आई जोकि उसने रसीव नहीं की। इसके बाद 15 सितंबर को सुबह 11 बजे दूसरे नंबर से वाट्सएप काल आई, उसे भी रसीव नहीं किया। कुछ देर बाद उसी नंबर से वाट्सएप काल आई तो उसने काल रसीव की। सामने से बोलने वाले व्यक्ति ने उसे धमकी दी कि एक करोड़ रुपये की फिरौती मांगी।

17 सितंबर की रात 12बजे के करीब घर के बाहर फायरिंग हुई। इसके बाद उसे वाट्सएप पर वायस मैसेज आया,जिसमें काल करने वाले बोला कि अगर एक कराेड़ रुपये नहीं दिए तो तेरे और तेरा परिवार का नुकसान कर देंगे। व्यापारी ने बताया कि इसके बाद 18 और 19 सितंबर को फिर से नए नंबरों से वाट्सएप काल आई तो उसने रसीव नहीं,बाद में जब उसने काल की तो सामने से बोलने ने कहा कि 25 लाख रुपए दे नहीं तो तुझे और तेरे परिवार को जान से मार देंगे। काल करने वाला खुद को लारेंस ग्रुप का मेंबर बता रहा था जो लारेंस और गोल्डी बराड़ के नाम से उसे डरा धमकाकर फिरौती की मांग कर रहा था।

यह भी पढ़ेंः Punjab IED Case: बाइक मुहैया कराने वाला सतनाम उर्फ हन्नी गिरफ्तार, दुबई भागने का कर रहा था प्रयास

Edited By: Vinay kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट