जालंधर, जेएनएन। मिनी लाकडाउन लगने व संपूर्ण लाकडाउन की संभावना के चलते श्रमिक बसों के जरिए अपने प्रदेशों को लौटने लगे है। उनके इसी डर का फायदा निजी बस संचालक उठा रहे हैं। वे कोरोना के नियमों की धज्जियां भी उड़ा रहे हैं और श्रमिकों से मनमाने दाम वसूलकर लूट भी रहे हैं।

पंजाब सरकार ने इंटर स्टेट बस सर्विस को बंद किया हुआ है। पंजाब में भी बसों का संचालन सिर्फ पचास फीसद यात्रियों के साथ ही आदेश दिया है, उसके बावजूद प्राइवेट बस संचालकों की मनमर्जी जारी है। न तो उनको कोई रोकने वाला और न ही पूछने वाला। यहीं कारण है कि शहर के लम्मा पिंड चौक, बस स्टैंड के बाहर, फोकल प्वाइंट, ट्रांसपोर्ट नगर व अन्य जगहों से बसों रोजाना जा रही हैं।

मंगलवार को जालंधर के मोता सिंह नगर से एक स्लीपर बस 45 यात्रियों को लेकर बिहार के पूर्णिया के लिए रवाना हुईं। स्लीपर बस 40 घंटे का सफर तय करने के बाद वीरवार सुबह 11 बजे के बाद पूर्णिया पहुंचेगी। इन यात्रियों का न तो कोई कोरोना टेस्ट किया गया और न ही दो गज की दूरी का ध्यान रखा गया। मोता सिंह नगर में यात्रियों को बस में सवार करा रहे निजी बस कंपनी के कारिंदे ने बताया कि पूर्णिया तक 2200 रुपये प्रति यात्री वसूला गया है, जबकि गोरखपुर तक की टिकट 1800 रुपये रखी गई है। जो यात्री बसों में सामान रख रहे हैं। उनसे सामान का किराया भी अलग से लिया जा रहा है।

यह भी पढ़ें - Punjab Police का गरीब पर जुल्म: SHO ने लात मारकर उड़ेली सब्जी की टोकरी, वीडियो वायरल होने पर सस्पेंड

कार्रवाई न करने के लिए रोडवेज अधिकारियों ने परिवहन विभाग को ठहराया जिम्मेदार

रोडवेज के अधिकारी इन अवैध बसों पर कार्रवाई करने के लिए परिवहन विभाग को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं, क्योंकि उनके पास ऐसी बसों पर कार्रवाई का अधिकार नहीं है। यह बस सुबह पीएपी चौक को क्रास करती हुई लुधियाना की तरफ बढ़ी। पीएपी चौक में भी ट्रैफिक मुलाजिम तैनात थे और चहेडू पुल पर भी। पुल क्रास करते ही बस के स्टाफ के साथ पुलिस मुलाजिमों की गुपचुप दो मिनट बात हुई और बस गंतव्य के लिए रवाना हो गई।

यह भी पढ़ें- ससुर करता था गलत हरकतें, बहू ने वीडियो बनाकर भाईयों को भेजी; जालंधर के बस्ती शेख में हंगामा

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

 

 

 

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021