जेएनएन, जालंधर। एक नर्स के साथ एक आश्रम के बाबा ने दुष्कर्म किया। उसने पुलिस में शिकायत दी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई और आरोपर सरेआम घूमता रहा। इसके बाद आरोपी का दुस्साहस बढ़ गया और उसने फिर सरेराह युवती से छेड़छोड़ शुरू कर दी। वह उसे केस वापस लेने को कहता था और ऐसा न करने पर धमकियां देता था। उसकी धमकी और छेड़छाड़ से तंग आकर युवती ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी।

पढ़ें : 12 साल का बच्चा सुबह सो कर उठा तो पिता की हालत देख रह गया सन्न

शहर के जिंदा रेलवे फाटक के नजदीक रहने वाली निजी अस्पताल की स्टाफ नर्स ने थाना एक में मकसूदां स्थित सरबत दा भला आश्रम के संचालक बाबा जगीर सिंह के खिलाफ दुष्कर्म मुकदमा कराया था। मां के मुताबिक 24 दिसंबर 2015 को थाना एक के एसएचओ बलबीर सिंह को दुष्कर्म की शिकायत दी थी। पुलिस ने मामला तो कर लिया, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की।

पढ़ें : अब हेमू की समाधि पर विवाद, दरगाह को समाधि बता लगाया केसरिया ध्वज

युवती की मां का आरोप है कि पुलिस ने दिसंबर से लेकर अब तक न तो जगीर सिंह को न तो गिरफ्तार किया और न ही कोई पूछताछ की। पुलिस के कार्रवाई न करने से बाबा जगीर सिंह के हौसले बढ़ गए अौर अब वह आते-जाते समय लड़की को परेशान करने लगा। वह उससे छेड़छाड़ करता था और फब्तियां कसता था। इसके साथ ही वह धमकियां देने लगा कि पुलिस में दी शिकायत वापस नहीं ली तो उसे जान से मार देंगे।

युवतरी की मां ने बताया कि सोमवार को बेटी घर लौटी तो रोते हुए उससे चिपक गई। उन्होंने कई बार पूछा, लेकिन उसने कुछ नहीं बताया। इस बीच वह बाथरूम चली गई। वापस लौटी तो बेटी घर में नहीं थी। उसे आवाजें देते हुए वह बाहर आई तो वह वहां भी नहीं मिली फिर रेलवे लाइन पर उसकी लाश मिली। उसने ट्रेन के आगे कूद कर आत्महत्या कर ली।

पढ़ें : छात्रा से ड्राइवर करता था छेड़छाड़, मां कहती है उससे शादी कर ल

जीआरपी के एसएचओ अशोक कुमार ने बताया कि युवती के पास से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। मामले की जांच की जा रही है। इस संबंध में परिवार के बयान के आधार पर कार्रवाई की जाएगी। यह भी बताया जा रहा है कि युवती कैंसर से पीडि़त थी, लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है।

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!