Move to Jagran APP

Punjab Politics: 'इको टूरिज्म पॉलिसी के तहत सुखविलास को मिला 108 करोड़ रुपये का लाभ', CM मान ने SAD पर लगाया आरोप

Punjab Politics पंजाब के मुख्‍यमंत्री भगवंत मान ने सुखबीर बादल पर निशाना साधा है। मान ने कहा कि पूर्व अकाली-भाजपा सरकार ने इको टूरिज्म पॉलिसी के तहत 108.73 करोड़ रुपये का लाभ दिया। बता दें मुख्यमंत्री ने यह आरोप तब लगाए जब शुक्रवार से विधानसभा का बजट सत्र शुरू होने वाला है। मान ने कहा कि इस पॉलिसी के तहत जमीन का सीएलयू किया गया।

By Kailash Nath Edited By: Himani Sharma Published: Thu, 29 Feb 2024 09:25 PM (IST)Updated: Thu, 29 Feb 2024 09:25 PM (IST)
Punjab Politics: 'इको टूरिज्म पॉलिसी के तहत सुखविलास को मिला 108 करोड़ रुपये का लाभ', CM मान ने SAD पर लगाया आरोप
CM मान ने SAD पर लगाया आरोप (फाइल फोटो)

राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। मुख्यमंत्री भगवंत मान ने आरोप लगाया है कि मोहाली के माजरी के ब्लॉक में पूर्व उप मुख्यमंत्री सुखबीर बादल के होटल सुख विलास को पूर्व अकाली-भाजपा सरकार ने इको टूरिज्म पॉलिसी के तहत 108.73 करोड़ रुपये का लाभ दिया।

loksabha election banner

मुख्यमंत्री ने दावा किया कि इस पॉलिसी का लाभ केवल सुखबीर बादल के होटल को ही मिला। भगवंत मान ने कहा कि इस केस को एजी के पास भेज दिया गया है। कानूनी सलाह के बाद इसकी रिकवरी की जाएगी।

बादलों ने जमीन पर खोला था मुर्गी फार्म: सीएम मान

अहम बात यह है कि मुख्यमंत्री ने यह आरोप तब लगाए जब शुक्रवार से विधानसभा का बजट सत्र शुरू होने वाला है। अपने सरकारी आवास पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, माजरी ब्लॉक के पल्लणपुर गांव में बादलों ने 1985-86 में 86.16 कनाल जमीन खरीदी थी। इस जमीन पर पहले बादलों ने मुर्गी फार्म खोला था।

यह भी पढ़ें: Punjab News: पंजाब में BJP की 15 सदस्‍यीय चुनाव कमेटी गठित, सुनील जाखड़ ने संभाली कमान; यहां देखें लिस्‍ट

मान ने बताया कि 2009 में तत्कालीन अकाली-भाजपा सरकार इको टूरिज्म पॉलिसी लेकर आई। चूंकि यह जमीन वन क्षेत्र के तहत आती थी इसलिए इस पर कोई भी निर्माण कार्य नहीं हो सकता था। क्योंकि इस पर पंजाब लैंड प्रिजर्व एक्ट 1900 (पीएलपीए) लागू होता था। इसके लिए 2009 में ईको टूरिज्म पालिसी लाई गई।

2013 में शुरू हुआ था निर्माण कार्य

इस पॉलिसी के तहत जमीन का सीएलयू किया गया। 27 मई 2013 को इस पर निर्माण कार्य शुरू हुआ। मुख्यमंत्री ने कहा कि चूंकि अकाली दल की सरकार थी। इसलिए पालिसी को भी अपने अनुरूप से बनाया गया। इसके लिए बाकायदा 10 वर्षं तक एसजी-एसटी टैक्स में 75 फीसदी, वैट में 75 फीसदी जोकि 85.84 करोड़ रुपये बनती है।

इसके अतिरिक्त 100 फीसदी बिजली ड्यूटी माफ की गई। जोकि 11.44 करोड़ रुपये बनते है। लग्जरी और वार्षिक लाइसेंस नवीनीकरण को भी माफ किया गया।जो 11.44 करोड़ रुपये बनती है। कुल मिलाकर 10 मई 2025 तक बादल के सुख विलास को 108 करोड़ रुपये का लाभ मिलेगा।

मुख्‍यमंत्री ने पंजाब बचाओ यात्रा पर कसा तंज

मुख्यमंत्री ने सुखबीर बादल पर तंज कसते हुए कहा कि आज अकाली दल पंजाब बचाओ यात्रा निकाल रही है, जबकि उनके होटलों में पंजाबियों का खून लगा हुआ है। उन्होंने कहा कि सुखबीर ने गरीबों का बिजली का बिल तो माफ नहीं किया लेकिन अपने होटल की बिजली ड्यूटी को माफ करवा लिया। पॉलिसी पर अफसरों की साइन होने के संबंध में मुख्यमंत्री ने कहा, चूंकि उन्हीं की सरकार थी, इसलिए दबाव बनाकर उन्होंने पालिसी बनवाई और साइन करवाए।

यह भी पढ़ें: पंजाब में बना भारत का दूसरा सबसे बड़ा लिवर इंस्टीट्यूट, CM मान ने किया उद्घाटन; अब एक ही जगह मरीजों को मिलेगी सुविधा

मुख्यमंत्री ने कहा कि कानूनी सलाह लेकर सरकार हाईकोर्ट जाएगी और पैसे की रिकवरी करेगी। एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि यह पॉलिसी अभी भी चल रही है लेकिन अभी तक किसी और होटल को इसका लाभ नहीं मिला है।

मुख्यमंत्री ने यह भी खुलासा किया कि लोग इसे ओबराय-सुख विलास के नाम से जानते हैं। जबकि इसका असली नाम मैट्रो इको ग्रीन रिसार्ट है। इसमें 100 रुपये के हिसाब से 1,83,225 शेयर सुखबीर के पास, 81,500 शेयर हरसिमरत कौर के पास और 5350 शेयर डबवाली ट्रांसपोर्ट के पास है।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.