नई दिल्‍ली, जेएनएन/एएनआइ। पंजाब के पूर्व उपमुख्‍यमंत्री और शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल ने आज शाम भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की। दोनों नेताओं के बीच दिल्‍ली विधानसभा चुनाव को लेकर बातचीत हुई। सुखबीर बादल ने दिल्‍ली विधानसभा चुनाव में भाजपा को समर्थन देने की बात कही। उन्‍होंने कहा कि कुछ गलतफहमियां हो गई थीं और अब वे दूर हो चुकी हैं। दिल्‍ली विधानसभा में भाजपा और शिअद का गठबंधन टूटने के बाद सुखबीर और नड्डा की इस मुलाकात को महत्‍वपूर्ण माना जा रहा था।

पत्रकारों से बातचीत मेें सुखबीर बादल ने दिल्ली विधासभा चुनाव 2020 में भाजपा को समर्थन देने की घोषणा की। इसके बाद जेपी नड्डा ने समर्थन देने के लिए शिरोमणि अकाली दल और सुखबीर बादल का धन्‍यवाद किया। नड्डा ने कहा कि भाजपा और शिरोमणि अकाली दल का गठबंधन सबसे पुराना व बेहद मजबूत है।

पत्रकारों से बातचीत में सुखबीर बादल ने कहा कि दिल्‍ली विधानसभा चुनावमें हमने कभी गठबंधन नहीं तोड़ा। शिअद ने सिर्फ अलग चुनाव लड़ने का फैसला किया। सुखबीर ने सीएए के मुद्दे पर सफाई देते हुए कहा कि शिअद शुरू से ही सीएए का समर्थन कर रहा है। शिअद सिर्फ पाकिस्‍तान और अफगानिस्तान में उत्पीड़न के शिकार सिखों को नागरिकता देने की मांग कर रहा है। इस मुद्दे पर हम रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से भी मिल चुके हैं।

सुखबीर बादल ने कहा कि भाजपा और शिअद का गठबंधन सिर्फ राजनीतिक गठजोड़ नहीं है बल्कि की यह भावनाओं और दिलों का मेल है। भाजपा-शिअद गठबंधन पंजाब की शांति, बेहतर भविष्‍य और उसके हितों के लिए भावनाओं का बंधन है। उन्‍होंने कहा कि कुछ गलतफहमियां थीं, लेकिन अब वे दूर हो गई हैं। 

बता दें कि दिल्‍ली विधानसभा चुनाव में भाजपा और शिअद का गठबंधन टूट गया था। इसके बाद शिअद ने यह चुनाव अकेले लड़ने की बात कही थी। गठबंधन टूटने के बाद पंजाब में भी शिअद नेताओं की नाराजगी सामने आई थी और कुछ नेताओं ने केंद्र सरकार से हटने की बात भी कह  डाली थी। इसके बाद सुखबीर बादल ने कहा था कि पंजाब में दोनों दल मिलकर 2022 में हाेनेवाला पंजाब विधानसभा चुनाव लड़ेंगे।

 

शिअद नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर भी कुछ संशय में था। शिअद नेताओं का कहना था कि CAA में मुस्लिमों को भी शामिल किया जाना चाहिए। शिअद ने कहा था कि हम CAA का समर्थन करते हैं, लेकिन इसमें से मुस्लिमों को अलग रखना सही नहीं है। इसके बाद SAD ने CAA से मुस्लिमों को अलग रखने और भाजपा से अपने मतभेदों को लेकर दिल्ली में चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया था।

इससे पहले शिअद अध्‍यक्ष सुखबीर बादल आज सुबह नई दिल्‍ली पहुंचे और इसके बाद शाम में जेपी नड्डा से मिलने पहुंचे। उसके साथ शिअद सांसद व वरिष्‍ठ नेता प्रेम सिंह चंदूमाजरा और अन्‍य अकाली नेता भी थे। दोनों नेताओं की वार्ता हुई। बताया जाता है कि उनकी बैठक में दिल्‍ली विधानसभा चुनाव को लेकर चर्चा हुई और नड्डा ने सुखबीर बादल की नाराजगी दूर करने की कोशिश की।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें


यह भी पढ़ें: 157 साल यह पुरानी कोठी आज भी नंबर-1, इसकी खासियत कर देती है हैरान

यह भी पढ़ें: क्रेडिट कार्ड की डिटेल चाेरी कर हैकिंग कर शाॅपिंग करते थे दो बैंककर्मी, गिरफ्तार


Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!