राज्य ब्यूरो, मुंबई। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री एवं अब नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस ने कहा है कि उनके मुख्यमंत्री रहते महाराष्ट्र सरकार ने कभी एनएसओ की सेवाएं नहीं लीं। फडणवीस ने यह बात प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत द्वारा सोमवार को पूछे गए कुछ सवालों के जवाब में यह बात कही।

फडणवीस ने आज पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि उनके मुख्यमंत्रित्वकाल में महाराष्ट्र सरकार ने एनएसओ की कोई सेवा नहीं ली। फडणवीस के अनुसार राज्य सरकार के प्रचार विभाग (डीजीआईपीआर) की एक टीम 2019 के विधानसभा चुनाव के बाद एवं नई सरकार बनने से पहले इजरायल गई जरूर थी, लेकिन यह टूर कृषि विकास के उद्देश्य से हुआ था।

बता दें कि प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन सावंत ने सोमवार को सवालों की झड़ी लगाते हुए पूछा था कि क्या पेगासस स्कैंडल फडणवीस की सरकार के दौरान हुआ था ? क्या मंत्रालय में बैठनेवाला कोई आईपीएस अधिकारी इसके पीछे काम कर रहा था ? डीजीआईपीआर के अधिकारी किसकी अनुमति से इजरायल गए थे ? उन्होंने वहां कौन सी ट्रेनिंग ली ? क्या यह पेगासस से संबंधित थी ? कुछ अधिकारी कितनी बार इजरायल गए ? क्या एनएसओ के साथ कोई सरकारी बैठक हुई थी ? एनएसओ के साथ क्या पत्राचार हुआ था ? सावंत का कहना था कि इन सभी सवालों के जवाब सामने आने चाहिए।

आज पत्रकारों ने जब सचिन सावंत द्वारा पूछे गए इन सवालों के संबंध में फडणवीस से जानना चाहा तो उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार एनएसओ के जरिए किसी भी व्यक्ति की जासूसी करवाए जाने से साफ इंकार कर चुकी है। सभी को उस पर भरोसा करना चाहिए।

बता दें कि पिछले कुछ दिनों से भारत में खबरें चल रही हैं कि इजरायल के पेगासस स्पाईवेयर के जरिए भारत में कुछ लोगों के मोबाइल फोन हैक किए गए। यह स्पाईवेयर (फोन हैक करनेवाला साफ्टवेयर) इजरायल का एनएसओ समूह बनाता है, एवं कुछ सरकारों को इसका लाइसेंस आतंकियों एवं अपराधियों पर नजर रखने के लिए देता है।

एक विदेशी अखबार द्वारा यह खबर सामने लाए जाने के बाद से ही कांग्रेस इस मुद्दे पर भाजपा को घेरने का प्रयास कर रही है। इसका जवाब देते हुए देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि हम देख रहे हैं कि एक-दो मीडिया समूह चीन से मिल रही फंडिंग के जरिए ऐसी अफवाहें फैलाने में लगे हैं। कुछ अंतरराष्ट्रीय ताकतें देश की छवि खराब करने की कोशिश कर रही हैं। विशेषकर तब, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को प्रगति के पथ पर आगे ले जाने की कोशिश कर रहे हैं।