नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाने के बहुप्रतीक्षित फैसले पर केंद्र सरकार ने मुहर लगा दी है। राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद केंद्र सरकार ने सोमवार को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 खत्म होने की सूचना संसद में दी। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने पहले राज्यसभा और फिर लोकसभा में अनुच्छेद-370 को खत्म करने की जानकारी दी। फोटो और वीडियो में देखें- अनुच्छेद-370  खत्म होने से ठीक पहले और बाद में घाटी में कर्फ्यू जैसे हैं हालात।

मालूम हो कि कश्मीर मुद्दे को लेकर पिछले कुछ दिनों से राजनीति गर्म है। कश्मीर में पैरामिलिट्री फोर्स (अर्धसैनिक बल) बढ़ाने के बाद से तनाव जैसे हालात हैं। 24 घंटे पहले तक स्थानीय लोग किसी बड़ी अनहोनी की आशंका में पेट्रोल, गैस और राशन जुटाने में लगे हुए थे। इन 24 घंटों में घाटी के हालात तेजी से बदले हैं। पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला को उनके घरों में नजरबंद कर लिया गया है। राज्य के कुछ संवेदनशील इलाकों में अनुच्छेद-144 लागू कर दी गई है। इसके बाद से घाटी में कर्फ्यू जैसे हालात हैं।

चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बल मुस्तैद है। इससे राज्य को लेकर किसी बड़े कदम की आशंकाओं ने और तेजी पकड़ ली है। घाटी में अफवाहों को रोकने के लिए इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है। कश्मीर मुद्दे को लेकर सुबह साढ़े नौ बजे पीएम आवास पर कैबिनेट की एक अहम बैठक भी हुई थी। इसमें फैसला लिया गया कि गृहमंत्री अमित शाह कश्मीर मुद्दे को लेकर पहले राज्यसभा और फिर लोकसभा को संबोधित करेंगे। उधर विपक्ष भी कश्मीर मुद्दे को लेकर संसद में सरकार को घेरने के लिए सुबह से रणनीति बना रहा है। तमाम विपक्षी पार्टियों ने संसद के दोनों सदनों में स्थगन प्रस्ताव का नोटिस भी दिया था। फोटो और वीडियो में देखें- कश्मीर मुद्दे को लेकर दिल्ली से घाटी तक का माहौल...

श्रीनगर में रविवार को सर्वदलीय बैठक में उपस्थित नेशनल कांफ्रेंस प्रमुख फारूक अब्दुल्ला, पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती और अन्य नेता।

शिकारो में छाया सन्नाटा : अपने अनुपम प्राकृतिक सौंदर्य और खूबसूरत डलझील के लिए प्रसिद्ध कश्मीर में शिकारा यहां की खास पहचान हैं। झील में तैरते शिकारो की सवारी का लुत्फ उठाने के लिए देश-दुनिया के पर्यटक यहां पहुंचते हैं। सरकार के पर्यटकों को यहां से सुरक्षित निकल जाने के फरमान के बाद रविवार को डल झील में सन्नाटा पसर गया।

सरकार की एडवाइजरी के बाद अमरनाथ श्रद्धालु और पर्यटक अपने घरों की ओर रवाना होने लगे हैं। जम्मू रेलवे स्टेशन से रवाना होने रही टाटा मूरी एक्सप्रेस में बैठने के लिए रविवार को भी यात्रियों में लगी होड़।

अनुच्छेद-370 खत्म होने से ठीक पहले जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा  के पुख्ता इंतजाम कर दिए गए थे।

इलाके में सुरक्षा में जम्मू कश्मीर पुलिस के जवान लगे दिखा दिए। 

इस मसले को लेकर कश्मीर में काफी सुरक्षा बढ़ा दी गई है। यहां काफी शांति का माहौल है। इलाक में सड़कों पर सन्नाटा छाया हुआ है।

बाजारों में भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

किसी भी तरह का हादसा होने की आशंका को देखते हुए स्थानीय पुलिस इलाके में कड़ी सुरक्षा में लगी है। 

फोटो और वीडियो में देखें- अनुच्छेद-370  खत्म होने से ठीक पहले और बाद में घाटी में कर्फ्यू जैसे हालात हैं

इस विधेयक पर विरोध दर्शाते हुए पीडीपी सांसदों ने अपने कपड़े फाड़ दिए। वहीं विरोधी दल के सांसद राज्‍यसभा में जमीन पर बैठ गए। राज्‍यसभा अध्‍यक्ष को सदन में मार्शल बुलाने पड़े।  

अनुच्छेद 370 खत्म होने से पहले आज सुबह लेह में लोग अपने रोजमर्रा के कामों पर वापस लौट गए थे। पिछले कुछ दिनों से बंद, स्कूल, कॉलेजों और एजुकेशनल संस्थानों में फिर से क्लासेज शुरू हो गई थीं।  

जम्मू के विक्रम चौक पर कुछ ऐसा माहौल है। शहर में सुरक्षा-व्यवस्था बढ़ा दी गई हैं।   

5 अगस्त की मध्यरात्री से धारा 144 सीआरपीसी लगाने के मद्देनजर श्रीनगर में सुरक्षा बल तैनात कर दिया गया था।

यह भी पढ़ें-
J&K से Article 370 व 35A हुआ खत्म, 20 बिंदुओं में समझें- इससे क्या बदलाव होगा
Article 370: किस जिन्न के बहाने भारत को धमका रहीं महबूबा, किया पाकिस्तान का समर्थन
Kashmir Issue: Article 370 व 35A खत्‍म करने की केंद्र सरकार ने बताई ये बड़ी वजह 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Amit Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप