नई दिल्‍ली, एएनआइ। कर्नाटक के पूर्व राज्‍यपाल और पूर्व कानून मंत्री हंसराज भारद्वाज का रविवार को निधन हो गया है। परिवार के अनुसार कार्डियक अरेस्ट की वजह से हंसराज भारद्वाज का निधन हुआ है। भारद्वाज का अंतिम संस्कार सोमवार शाम 4:00 बजे होगा। दिल्ली के निगम बोध घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हंसराज भारद्वाज के निधान पर शोक जताया है।

कानून मंत्री के रूप में दूसरा सबसे

लंबा कार्यकाल हंसराज भारद्वाज का जन्‍म 19 मई 1937 को हरियाणा में हुआ था। वह यूपीए के कार्यकाल के वक्त कानून मंत्री के रूप में 22 मई 2004 से 28 मई 2009 तक रहे। भारद्वाज दूसरे ऐसे कानून मंत्री थे, जिनका आजादी के बाद सबसे लंबा कार्यकाल रहा।

कर्नाटक और केरल के राज्यपाल भी रहे

भारद्वाज कानून मंत्री के बाद राज्यपाल के रूप में भी सेवाएं दे चुके हैं। भारद्वाज कर्नाटक और केरल के राज्यपाल रहे हैं। भारद्वाज 2009 से 2014 तक कर्नाटक के राज्यपाल रह चुके थे। वहीं 2012-13 तक वो केरल के राज्यपाल भी रहे हैं। इसके अलावा हंसराज भारद्वाज 1982, 1994, 2000 और 2006 में राज्यसभा सदस्य भी रह चुके थे। वहीं कांग्रेस नेता हंसराज भारद्वाज सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील के तौर पर भी पहचान रखते थे।

राहुल गांधी की क्षमता पर उठाए सवाल

उनकी उम्र 82 साल थी और वह कांग्रेस के पुराने कांग्रेसियों में थे। हंसराज भारद्वाज यूपीए 2 में 2009 से 2014 तक केंद्रीय कानून मंत्री रहे। भारद्वाज कांग्रेस के उन नेताओं में रहे, जो राहुल गांधी की नेतृत्व क्षमता पर सवाल उठाए थे। अप्रैल 2016 में हंसराज ने राहुल गांधी के कांग्रेस उपाध्यक्ष रहते हुए कहा था कि उन्हें अभी सीखने की जरूरत है। 2018 में हंसराज भारद्वाज हंसराज ने कहा था कि मैं राहुल गांधी को एक नेता के रूप में स्वीकार नहीं करता। वह इस बात को तभी समझेंगे जब वह कोई पद प्राप्त करेंगे।

पीएम मोदी ने शोक जताया 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हंसराज भारद्वाज के निधान पर शोक जताया है। उन्‍होंने ट्वीट कर कहा है कि पूर्व मंत्री हंसराज भारद्वाज के निधन से दुख हुआ है। दुख की इस घड़ी में मेरे विचार उनके परिवार और शुभचिंतकों के साथ हैं। ओम शांति। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस