नई दिल्‍ली, पीटीआइ। भातीय जनता पार्टी को वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान राजनीतिक चंदे के रूप में 614.53 करोड़ रुपये मिले हैं। वहीं, इस दौरान विपक्षी कांग्रेस पार्टी द्वारा जुटाई गई राशि के छह गुना से अधिक है। निर्वाचन आयोग के आंकड़ों के मुताबिक, कांग्रेस को 2021-22 के दौरान 95.46 करोड़ रुपये का चंदा मिला है। निर्वाचन आयोग के मुताबिक, पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस को इस अवधि के दौरान चंदे के रूप में 43 लाख रुपये मिले, जबकि माकपा को 10.05 करोड़ रुपये चंदा प्राप्त हुई। बता दें कि माकपा की केरल में सरकार है।

ममता बनर्जी की पार्टी को सिर्फ 43 लाख रुपये चंदा?

पश्चिम बंगाल को लेकर चुनाव आयोग के आंकड़ें हैरानी वाले हैं। पश्चिम बंगाल में तृणमूल लंबे समय से सत्‍ता में हैं। ऐसे पार्टी को सिर्फ 43 लाख रुपये का चंदा? जहां सभी पार्टियों का चंदा बीते साल में बढ़ा है, वहीं ममता बनर्जी की पार्टी को सिर्फ 43 लाख रुपये चंदा मिलना हैरान करता है। बता दें कि भाजपा पिछले साल मिले चंदे की तुलना में 28 फीसद बढ़ोत्‍तरी हुई है। कांग्रेस के चंदे में भी लगभग इतना ही इजाफा हुआ है।

भाजपा और कांग्रेस के चंदे लगभग समान इजाफा

भाजपा को 2020-21 में 477.7 करोड़ रुपये चंदे के रूप में मिले थे, जो इस साल बढ़कर 614.5 करोड़ रुपये हो गया है। भाजपा के चंदे में हुआ ये इजाफा लगभग 28.7 फीसदी है। कांग्रेस की बात करें, तो पिछले साल की तुलना में इस बार 28.1 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 95.5 करोड़ रुपये का चंदा मिला है। कांग्रेस को पिछले साल 74.7 करोड़ चंदे के रूप में मिले थे। की तुलना में हासिल हुए. बीजेपी को पिछले साल की तुलना में 28.7 फीसदी की वृद्धि हुई थी।

Fact Check : FIFA World Cup 2022 में अजान की वजह से नहीं रोका गया मैच, वायरल वीडियो चार साल पुराना

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के चंदे में 120% का इजाफा!

निर्वाचन आयोग के आंकड़ों के मुताबिक, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) चंदा हासिल करने के मामले में तीसरे नंबर पर रही। एनसीपी को साल 2021-2022 के दौरान 57.9 करोड़ रुपये मिले, जबकि उसे पिछले साल 26.2 करोड़ ही मिले थे। पिछले साल की तुलना में एनसीपी को 120 फीसदी की वृद्धि हुई है। इधर, सीपीआई-एम को 10 करोड़ चंदे के रूप में मिले, लेकिन पिछले साल की तुलना में यह 21.7 प्रतिशत कम है। पिछले साल पार्टी को 12.8 करोड़ मिले थे।

इसे भी पढ़ें: विदेशियों ने सालभर में 1.75 लाख करोड़ निकाले, तो म्यूचुअल फंड्स ने 1.93 लाख करोड़ निवेश कर मजबूती दी

Edited By: Tilakraj

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट