बीरमित्रपुर, जेएनएन। सफाई के बहाने दो उचक्कों ने बीरमित्रपुर नगरपालिका की कम्यूनिटी आर्गनाइजर मेरी सागरिका किरो को अपना निशाना बनाया और डेढ़ लाख से अधिक के गहने लेकर फरार हो गए। इस संबंध में थाने में प्राथमिकी दर्ज होने के बाद पुलिस इसकी छानबीन कर रही है। मेरी के घर में पहुंचने से पहले दोनों उचक्के पूर्व नगरपाल शशि सागर के घर भी गए थे, जहां से उन्हें भगा दिया गया। जिले में बार-बार इस तरह की घटना होने के बावजूद लोगों की ठगी का शिकार होना चर्चा का विषय बन गया है।

नगरपालिका की कम्यूनिटी आर्गनाइजर मेरी सागरिका किरो रविवार को म्यूनिसिपल कॉलोनी स्थित आवास में अकेली थी जबकि उनके पति अपने काम पर गए थे। सुबह करीब साढ़े आठ बजे दो युवक बाइक से कॉलोनी में आए। उन्होंने मेरी के आवास से करीब सौ मीटर दूरी पर अपनी बाइक खड़ी की। वहां से उनके घर जाकर फ्रिज, इनवर्टर, वॉशिंग मशीन आदि की सर्विसिंग करने की बात कही। मेरी का विश्वास जीत कर पहले पायल दिया। इसके बाद सोने की चेन, अंगूठी एवं अन्य सामान साफ करने के लिए हल्दी पानी में डाला। ठीक से साफ नहीं होने की बात कहकर उसे गर्म पानी लाने के कहा गया। जब वह पानी गर्म करने के लिए रसोई में गयी तब उच्चकों ने गहने निकाल कर अपने पाकेट में डाल लिये। जब वह गर्म पानी लेकर पहुंची तो उसमें थोड़ा हल्दी और डाल कर ठंडा होने तक इंतजार करने को कहा गया और वहां से निकल गए। जब पानी ठंडा हुआ और मेरी ने उसमें हाथ डाला तो ठगी का पता चला।

मुख्यमंत्री रूपाणी ने दी चेतावनी कहा, पीओके को खोने के लिए तैयार हो जाए पाक

इस संबंध में थाने में शिकायत दर्ज करने के बाद पुलिस ने बीरमित्रपुर, रायबोगा व कुआरमुंडा क्षेत्र में पुलिस को सक्रिय किया। पर कहीं उच्चकों का पता नहीं चला। शनिवार को बणई में भी इसी तरह से गहने लेकर उचक्के फरार हो गए थे। 

मुस्लिम युवकों ने कायम की मिसाल, वैदिक रीति से हिंदू अंकल का किया अंतिम संस्कार

लाखों का कारोबारी बना भिखारी, पढ़ें एक युवक की राजा से रंक बनने की कहानी

 

Posted By: Babita kashyap

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप