अनुगुल/भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। ओडिशा के पूर्व सीएम और कोरापुट से नौ बार के सांसद गिरिधर गमांग और उनके बेटे शिशिर गमांग ने बुधवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) छोड़ दी। गिरिधर गमांग ने पार्टी के प्राथमिक सदस्य और राज्य कार्यकारी सदस्य इन दोनों पदों से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा को अपना इस्तीफा सौंप दिया।

2015 में भाजपा में शामिल हुए थे गिरधिर और गमांग

गौरतलब है कि गिरिधर गमांग और शिशिर गमांग 2015 में बीजेपी में शामिल हुए थे। दोनों ने बुधवार को भुवनेश्वर में एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए इसकी जानकारी दी। गिरिधर और शिशिर दोनों 2015 में कांग्रेस पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे। एक रिपोर्ट के अनुसार कुछ नेता ओडिशा, छत्तीसगढ़ और आंध्र प्रदेश के क्षेत्रों को मिलाकर एक केंद्र शासित प्रदेश के गठन पर काम कर रहे हैं। इसके लिए उन्होंने दंडकारण्य पर्वतमाला विकास परिषद (डीपीवीपी) के नाम से एक संस्था बनाई है।

13 जनवरी को पिता-पुत्र ने की थी के चंद्रशेखर राव से मुलाकात

वहीं, ओडिशा के पूर्व सीएम और कोरापुट से नौ बार सांसद रहे गिरिधर गमांग ने अपने बेटे शिशिर गमांग के साथ 13 जनवरी को के चंद्रशेखर राव से भी मुलाकात की थी। मुलाकात के बाद राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि पिता-पुत्र की जोड़ी भी बीआरएस में शामिल हो सकते हैं। यह चंद्रशेखर राव की राजनीतिक पार्टी है, जिसका पूरा नाम भारत राष्ट्र समिति है। 

जयराम पांगी भी हुए बीआरएस में शामिल

इसी क्रम में कोरापुट के पूर्व सांसद जयराम पांगी भी तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की राजनीतिक पार्टी भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) में शामिल होने जा रहे हैं। वह 27 जनवरी को हैदराबाद में बीआरएस में शामिल होंगे। इससे पहले उन्‍होंने 16 जनवरी को केसीआर से मुलाकात की थी और इसी के साथ उनके पार्टी में शामिल होने के कयास लगने लगे थे।

यहां पढ़ें पूरी खबर- Odisha Politics: अटकलों पर लगा विराम, पूर्व सांसद जयराम पांगी बीआरएस में होने जा रहे शामिल

Edited By: Arijita Sen

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट