भुवनेश्वर, संजय कुमार। राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) पूरे देश में लागू होनी चाहिए। किसी भी सरकार का काम है कि देश में रहने वाले लोगों को चिह्नित कर जो भारत के नागरिक नहीं हैं, उसे बाहर करें। यह किसी वर्ग विशेष के खिलाफ नहीं है। जहां तक राम मंदिर के फैसले का सवाल है, समझौते की प्रक्रिया शुरू की गई थी, लेकिन यह सफल नहीं हो सका है। अब न्यायालय का निर्णय आना है। फैसला जो आएगा, उस समय देखेंगे।

जहां तक फिर से समझौते की बात है, तो इसका हम स्वागत करते हैं, लेकिन हिंदू समाज के मनोनुकूल निर्णय होना चाहिए। आरएसएस के सर कार्यवाह भैय्याजी जोशी ने पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए उक्त बातें कही है। वे संघ की तीन दिवसीय अखिल भारतीय कार्यकारिणी की बैठक के अंतिम दिन भुवनेश्वर के सोया यूनिवर्सिटी के कैंपस में शुक्रवार को पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। इस मौके पर आरएसएस के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अरुण कुमार व सह प्रचार प्रमुख नरेन्द्र ठाकुर उपस्थित थे। 

भैय्याजी ने धारा 370 व कश्मीरी पंडितों के सवाल पर कहा कि सरकार ने धारा 370 हटाकर अच्छा काम किया है। अब वहां कश्मीरी पंडितों की वापसी होनी चाहिए। देश विरोधी गतिविधि से जुड़े लोगों के सवाल पर कहा कि सरकार को ऐसे लोगों का पता लगाकर उस पर कार्रवाई करनी चाहिए। कामन सिविल कोर्ट के सवाल पर कहा कि सरकार को इसे पूरे देश में लागू करना चाहिए। देश के विकास के लिए यह जरूरी है। कानून अलग अलग होने पर लोग इससे बचने का प्रयास करते हैं। इसलिए सरकार को इसे जल्द लागू करना चाहिए।

राम मंदिर के एक सवाल पर कहा कि अगर समझौता हुआ रहता तो देश के लिए अच्छा रहता। हम भी चाह रहे थे कि समझौते से कुछ समाधान निकले। वर्षों तक इसके लिए प्रयास किया गया, लेकिन सफलता नहीं मिली। अब अदालत में सुनवाई भी पूरी हो चुकी है। पूरे देश के साथ साथ संघ को भी इस फैसले का इंतजार है। 

भुवनेश्वर के सोया यूनिवर्सिटी कैंपस में चल रही संघ की तीन दिवसीय अखिल भारतीय कार्यकारिणी की बैठक संघ प्रमुख मोहन भागवत के सम्बोधन के साथ समाप्त हो गई। अगले दो दिनों तक संघ के केन्द्रीय अधिकारियों की बैठक चलेगी। 20 अक्टूबर को संघ प्रमुख मोहन भागवत भुवनेश्वर से रवाना होंगे।

बंगाल में हिंदुओं की हत्या पर सरकार को कठोर कदम उठाने चाहिए

भैय्याजी जोशी ने कहा कि बंगाल में हिंदुओं की हत्याएं काफी दुखद है। जो बंगाल कभी शांतिप्रिय था आज वहां हत्याओं का दौर चल पड़ा है। साम्यवादियों की सरकार के समय भी ऐसी ही स्थिति थी, इसलिए वर्तमान सरकार को वहां हो रही हत्याओं को रोकने के लिए सख्त कदम उठाने चाहिए।

प्लास्टिक मुक्त है RSS कार्यकारिणी बैठक, लोगों को दिया जा रहा है ये खास संदेश

ओडिशा की अन्य खबरें पढऩे के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Babita kashyap

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप