इस्लामाबाद। प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने बुधवार को कश्मीर मसले का समाधान निकालने के लिए भारत को पाकिस्तान के साथ सार्थक बातचीत के लिए आमंत्रित किया है। उन्होंने कहा कि दक्षिण एशिया में स्थाई शांति के लिए यह जरूरी हो गया है।

पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर विधानसभा के संयुक्त अधिवेशन को संबोधित करते हुए शरीफ ने कहा कि मैं भारत को कश्मीर मामले का हल निकालने के लिए व्यापक, निरंतर और सार्थक वार्ता के लिए आमंत्रित करता हूं। उन्होंने जोर दिया कि जब तक कश्मीरी लोगों की आकांक्षाओं के अनुसार कश्मीर विवाद का समाधान नहीं निकाला जाता है, तब तक यह क्षेत्र अविश्वास और तनाव की चपेट में रहेगा।

पाकिस्तान में 1990 से हर वर्ष पांच फरवरी को 'कश्मीर एकता दिवस' मनाया जा रहा है। इस दिन राजनीतिक पार्टियों और कट्टरपंथी समूहों द्वारा रैली आयोजित की जाती है। जबकि प्रतिबंधित आतंकी समूह लश्कर-ए-तैयबा के मुखौटा जमात-उद-दावा ने लाहौर और इस्लामाबाद सहित कई शहरों में प्रदर्शन किया। इसके प्रमुख हाफिज मुहम्मद सईद ने लाहौर में एक रैली को संबोधित किया। वह भारत में मुंबई आतंकी हमले के संबंध में वांछित है।

घुसपैठ करवाने के लिए पाक ने की गोलीबारी

पिछले साल देश की सत्ता संभालने के बाद शरीफ ने हालांकि भारत के साथ बेहतर संबंधों की इच्छा जताई है लेकिन सात भारतीय जवानों की हत्या और नियंत्रण सीमा पर भारी गोलीबारी से संबंधों पर असर पड़ा है। प्रधानमंत्री ने बुधवार के अपने भाषण में भरोसा जताया है कि भारतीय नेतृत्व इस मसले की संवेदनशीलता को समझते हुए उनके आमंत्रण का सकारात्मक जवाब देगा। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा के दोनों ओर रहने वाले लोगों की मुश्किलों को कम करने के लिए कई ठोस कदम उठाए हैं। इन कदमों से स्पष्ट पता चलता है कि पाकिस्तान शांति का इच्छुक है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप