नई दिल्ली। दक्षिण चीन सागर (SCS) पर चीन और इंडोनेशिया के बीच तनातनी जारी है। हाल में इंडोनेशिया ने चीन के दावे वाले दक्षिण चीन सागर के सुदूर उत्तरी हिस्से को सार्वजनिक तौर पर अपना स्पेशल इकॉनिमक जोन बता डाला। हालांकि चीन ने तुरंत ही इंडोनेशिया के दावे को 'अर्थहीन' बताया है।

इंडोनेशिया के इस दावे के बाद एक चीज तो साफ हो गई है कि वह इस इलाके में आक्रामक रुख अपना रहा है। इसके अलावा वह नजदीक के नातूना द्वीप पर सैन्य तैयारियां और जंगी जहाज की भी तैनाती कर रहा है। यह तब हो रहा है जब कई देश चीन के दक्षिण चीन सागर के दावे पर लचीला रुख अपना रहे हैं।

दोनों देशों के बीच 2016 में 3 बार झड़प हो चुकी है। इसमें चेतावनी फायरिंग भी शामिल हैं। इंडोनेशिया ने एक बार तो चीन की मछली मारने वाली नौका ही जब्त कर ली थी।

इंडोनेशिया अपने देश में सबसे ज्यादा निवेश करने वाले और व्यापारिक सहयोगी चीन को इसलिए चुनौती दे रहा है कि क्योंकि वह जलमार्ग पर नियंत्रण चाहता है। इस जल सीमा में तेल और नेचुरल गैस समेत मछली का बड़ा भंडार है।

यह भी पढ़ें: चीन, भारत समेत कई देशों को उ. कोरिया अवैध रूप से कर रहा निर्यात

 

By Abhishek Pratap Singh