वाशिंगटन, प्रेट्र। सिंधु जल संधि के तकनीकी मामलों पर भारत और पाकिस्तान के बीच उच्च स्तरीय बातचीत गुरुवार को यहां शुरू हुई। विश्व बैंक के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि यह बातचीत दोनों देशों के लोगों के फायदे के लिए संधि की रक्षा के लिए जारी बैठकों का हिस्सा है।

 उन्होंने कहा कि संधि को लेकर 14 और 15 सितंबर को बातचीत निर्धारित है। इससे पहले अगस्त में विश्व बैंक ने कहा था कि सिंधु जल संधि के तहत भारत को कुछ शर्तों के साथ झेलम और चेनाब नदी की सहायक नदियों पर पनबिजली परियोजना के निर्माण की अनुमति दी गई है। भारत द्वारा किशनगंगा (330 मेगावाट) और रैटले (850 मेगावाट) पनबिजली संयंत्रों के निर्माण का पाकिस्तान विरोध कर रहा है। भारत और पाकिस्तान के बीच 1960 में विश्व बैंक की मदद से सिंधु जल संधि पर हस्ताक्षर हुए थे।

यह भी पढें: पुंछ व परगवाल में रातभर गोलाबारी करती रही पाक सेना

By Bhupendra Singh