क्वेटा, प्रेट्र/रायटर। पाकिस्तान के क्वेटा में पुलिस प्रशिक्षण केंद्र पर हमले में 61 लोगों की मौत हो गई। इनमें 60 कैडेट और एक जवान है। 125 घायलों में से 20 की हालत नाजुक है। तीन आतंकियों ने सोमवार की रात इस हमले को अंजाम दिया। इनमें से दो ने खुद को उड़ा लिया, जबकि एक को सुरक्षा बलों ने मार गिराया। आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आइएस) ने हमले की जिम्मेदारी ली है।

लेकिन, सेना को लश्कर-ए-झांगवी से अलग हुए गुट अल-अलीमी पर शक है।क्वेटा अशांत बलूचिस्तान प्रांत की राजधानी है। यह पाकिस्तान में सबसे भीषण आतंकी हमलों में से एक है। हमले के वक्त प्रशिक्षण केंद्र में करीब सात सौ कैडेट थे। नकाबपोश आतंकियों ने सबसे पहले वाच टॉवर पर तैनात सुरक्षाकर्मी की हत्या की। इसके बाद बैरक में सो रहे रंगरूटों को निशाना बनाया।

पढ़ें- अफगानिस्तान में तालिबान का हमला नाकाम, 32 आतंकियों की मौत

गोलियों की आवाज सुनते ही 15 से 25 साल की उम्र के रंगरूट जान बचाने के लिए इधर-उधर भागने लगे। कई ने भागने के लिए छत से छलांग लगा दी। कई कैडेटों को आतंकियों ने बंधक बना लिया।चश्मदीदों के अनुसार आतंकी आधुनिक हथियारों से लैस थे। हमला सुनियोजित तरीके से अंजाम दिया गया। आतंकियों ने प्रशिक्षण केंद्र के पांच अलग-अलग जगहों से गोलीबारी की। ज्यादातर मौतें तब हुई जब दो हमलावरों ने खुद को उड़ा लिया। तीसरे को फ्रंटियर कॉ‌र्प्स के जवानों ने मार गिराया। पूरा ऑपरेशन करीब पांच घंटे चला।

तस्वीरें: पाक के क्वेटा में पुलिस ट्रेनिंग सेंटर पर आतंकी हमला

शुरुआत में आतंकियों की संख्या पांच से छह होने की आशंका जताई जा रही थी। हमले के बाद प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने उच्च स्तरीय बैठक की। उन्होंने और सेना प्रमुख राहिल शरीफ ने क्वेटा का दौरा भी किया। चीन और अमेरिका ने हमले की निंदा करते हुए आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में पाकिस्तान को सहयोग जारी रखने की बात कही है।

एक अन्य घटना में मंगलवार को पेशावर में बम धमाके में एक पुलिस कांस्टेबल की मौत हो गई। वह पोलियो टीम की सुरक्षा में तैनात था। इससे एक दिन पहले मोटरसाइकिल सवार बंदूकधारियों ने ग्वादर बंदरगाह के निकट जिवानी तटीय शहर में दो तटरक्षकों और एक नागरिक की गोली मारकर हत्या कर दी थी।

क्वेटा आतंकी हमला: पिछले एक साल के दौरान पाक में हुए प्रमुख आतंकी हमले

पर्रिकर ने क्वेटा हमले की निंदा की

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने पाकिस्तान के क्वेटा में हुए आतंकवादी हमले में मारे गए लोगों के प्रति शोक व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि हम किसी भी तरह की हिंसा का समर्थन नहीं करते है और किसी अन्य देशों को भी आतंकवादियों का समर्थन नहीं करने की सलाह देते हैं। उन्होंने कहा कि कई बार ऐसा करना आप पर ही उल्टा पड़ सकता है। सीज फायर उल्लंघन पर पर्रिकर ने कहा कि सेना उपयुक्त जवाब दे रही है। पाक की ओर से की जा रही गोलाबीरी को उन्होंने भारतीय सेना की कार्रवाई की प्रतिक्रिया करार दिया।

पढ़ें- नवाज की बेटी मरियम ने लीक की थी हाईलेवल मीटिंग की इंंफॉर्मेशन: इमरान

Posted By: Abhishek Pratap Singh