जागरण संवाददाता, वाराणसी। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने पर कुशीनगर में सबसे ऊंची भगवान बुद्ध की प्रतिमा बनवाने की घोषणा की है। रविवार को भगवान बुद्ध की उपदेशस्थली सारनाथ से 'धम्म चेतना यात्रा' को झंडी दिखाकर रवाना करने के बाद कहा कि हम भगवान बुद्ध, बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर व सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचारों को आत्मसात कर सशक्त भारत का निर्माण करेंगे।

बाबा साहेब की 125वीं वर्षगांठ पर ऑल इंडिया भिक्षु संघ के बैनर तले निकली 'धम्म चेतना यात्रा' के शुभारंभ पर समारोह को संबोधित करते हुए राजनाथ ने कहा कि 2001 में जब मैं मुख्यमंत्री था, तब बामियान (अफगानिस्तान) में आतंकवादियों ने भगवान बुद्ध की प्रतिमा तोड़ दी थी।

इससे मुझे गहरा धक्का लगा और तभी मैने संकल्प लिया कि मैं बौद्ध मतावलंबियों की पवित्र स्थली कुशीनगर में बामियान से भी ऊंची बुद्ध प्रतिमा की स्थापना करूंगा। अगले चुनाव में मेरी सरकार चली गई और मैं संकल्प साकार नहीं कर सका। इस बार मौका मिला और सूबे में सरकार बनी तो अपने संकल्प को जरूर पूरा करूंगा।

उन्होंने कहा कि बुद्ध का जन्म राज परिवार में हुआ था और बाबा साहेब का गरीब परिवार में। दोनों ने सामाजिक समरसता व मानव कल्याण के लिए अपना सबकुछ त्यागा। सरदार पटेल ने 565 रियासतों को जोड़कर जहां देश की एकता-अखंडता को अक्षुण्ण किया, वहीं बाबा साहेब ने रूढ़िवादी परंपरा को खत्म करने के लिए संविधान की रचना की और सामाजिक ताने-बाने को सशक्त किया।

समारोह की अध्यक्षता कर रहे संघ नायक पूज्य भदंत डॉ. धम्म वीरियो ने विश्वास जताया कि यह यात्रा समाज में प्रेम, भाईचारा व शांति स्थापना का मार्ग प्रशस्त करेगी। विशिष्ट अतिथि रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि भगवान बुद्ध व बाबा साहेब के विचारों से ही सामाजिक समरसता संभव है।

संबंधित अन्य खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Sachin Mishra