भोपाल, जेएनएन। आखिरकार प्‍यारे मियां पुलिस की गिरफ्त में आ गए हैं। किशोरियों से दुष्कर्म के आरोपित प्यारे मियां को पुलिस गुरुवार को फ्लाइट से भोपाल लेकर आई। उसे भोपाल पुलिस की सूचना पर जम्मू-कश्मीर की श्रीनगर पुलिस ने एक होटल से गिरफ्तार किया था। पुलिस इस बात का पता लगा रही है कि प्यारे का कहीं आतंकी संगठनों से कोई रिश्ता तो नहीं है। आखिर प्‍यारे मियां जम्‍मू-कश्‍मीर क्‍यों गए थे? दुष्कर्म मामले के जांच के लिए बनी एसआइटी की टीम दोपहर करीब तीन बजे प्यारे को दिल्ली की फ्लाइट से लेकर भोपाल पहुंची। एयरपोर्ट से उसे सीधे कंट्रोल रूम लाया गया। इस दौरान करीब 45 मिनट तक प्यारे मियां से पुलिस ने बंद कमरे में पूछताछ की। इसके बाद मीडिया से छिपाते हुए जेपी अस्पताल ले जाया गया। करीब एक घंटे तक चली मेडिकल जांच के बाद एक बार फिर पुलिस मीडिया को चकमा देते हुए। प्यारे को अपने साथ पूछताछ के लिए ले गई।

स्वजनों ने किया हंगामा

पुलिस कंट्रोल रूम पहुंचे प्यारे मियां के स्वजनों ने हंगामा करने की कोशिश भी की। इस दौरान प्यारे मियां की बेटी ने आरोप लगाया कि उसके पिता को राजनीतिक द्वेष के कारण झूठा फंसाया जा रहा है। उन्हें शुगर की बीमारी है और कैंसर का भी इलाज हो चुका है। स्वजनों ने यह भी कहा कि प्यारे मियां को पुलिस ने गिरफ्तार नहीं किया है। उन्होंने श्रीनगर पुलिस के सामने सरेंडर किया है।

सरेंडर का आरोप निराधार : एडीजी

एडीजी उपेन्द्र जैन का कहना है कि प्यारे मियां के फरार होने के साथ ही उसकी लोकेशन पर नजर रखी जा रही थी। श्रीनगर में उसकी मौजूदगी की पुष्टि होते ही वहां की पुलिस की मदद से उसे हिरासत में ले लिया गया था। उसके स्वजनों द्वारा लगाए जा रहे सरेंडर करने के आरोप निराधार हैं। यदि उसे सरेंडर करना ही था तो वह इंदौर या मुंबई में भी पुलिस के सामने सरेंडर कर सकता था। इसके लिए उसे श्रीनगर जाने की क्या जरूरत थी। कश्मीर के आतंकी संगठनों से कनेक्शन के सवाल पर एडीजी जैन ने कहा कि इस बारे में आरोपित से पूछताछ की जा रही है। जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। प्यारे मियां को शुक्रवार को अदालत में पेश किया जाएगा। भोपाल पुलिस उसे श्रीनगर से ट्रांजिट रिमांड पर लाई है।

तीन मंजिला अवैध मैरिज, हॉल पर चला हथौड़ा

इस बीच फर्जी पत्रकार प्यारे मियां की अवैध संपत्तियों पर तीसरे दिन भी कार्रवाई जारी रही। प्यारे मियां ने काली कमाई से ऐशबाग स्थित अफतार शादी हॉल का निर्माण नियमों को ताक पर रख कराया था। नगर निगम व जिला प्रशासन ने पुलिस की मौजूदगी में इसे गुरुवार को तोड़ने की कार्रवाई की। अधिकारियों ने बताया कि बिना अनुमति प्यारे मियां ने 7500 वर्गफीट पर अवैध निर्माण कराया था। इसका निर्माण भी करीब 20 साल पहले कराया गया। कुछ माह पहले निगम के बकाया टैक्स को लेकर प्यारे का विवाद भी हुआ था। जब अधिकारियों को कई बार धमकियां भी दी गई।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस