नई दिल्ली। बिहार में तूफान से हुए जानमाल के भारी नुकसान का जायजा लेने के लिए गृहमंत्री राजनाथ सिंह कल प्रदेश का दौरा करेंगे। उनके साथ एक उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल भी जा रहा है।

गौरतलब है कि बिहार के कई जिलों में मंगलवार रात आए तूफान से 65 लोगों की मौत हो गई और सैकड़ों लोग घायल हो गए। तूफान से कई मकान नष्ट हो गए और फसल को भी नुकसान हुआ है। इसमें आम और लीची भी शामिल है। राज्य सरकार ने मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख की सहायता राशि देने की घोषणा की है। वहीं, गंभीर रूप से घायलों को तत्काल 4500-4500 रुपये की नगद सहायता दी जा रही है।

बिहार आपदा प्रबंधन विभाग के मुख्य सचिव व्यासजी ने बुधवार को बताया कि पूर्णिया में 39 लोगों की मौत की खबर है। इसके अलावा मधेपुरा में सात, मधुबनी में पांच, दरभंगा में तीन, सीतामढ़ी और कटिहार में दो-दो व सुपौल में एक की जान गई। तूफान में कई मवेशी भी मारे गए हैं। कई पेड़ उखड़ गए। आम, लीची, सहित गेहूं और मक्का की फसल भी खराब हो गई। कई जिलों में बिजली की लाइनें क्षतिग्रस्त हो गईं और हजारों मकान और झोपड़े नष्ट हो गए।। इन जिलों में सड़क परिवहन भी प्रभावित हुआ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार में आए चक्रवाती तूफान से हुए नुकसान व जानमाल की क्षति की जानकारी लेने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बात की। उन्होंने मुख्यमंत्री को हर संभव मदद देने का भरोसा दिलाया है। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट करके यह जानकारी दी है। प्रधानमंत्री ने बिहार के बारे में विस्तृत चर्चा करके केंद्र की ओर से हर तरह की मदद का भरोसा दिया है।

पढ़ेंः बिहार में चक्रवाती तूफान का कहर, 54 की मौत

Edited By: Sudhir Jha